चार सीपें – एक गुड़‍िया की कीमत!

Prernadayak Laghu Kathayen Story in Hindi

एक 5 साल का लड़का और 3 साल लड़की जो की भाई-बहन थे दोनों साथ में बाजार से गुजर रहे थे। अचानक लड़के को लगा कि, उसकी छोटी बहन पीछे रह गई है। उसने रुकाकर, पीछे पलटकर देखा तो उसे दिखा कि उसकी उसकी बहन एक खिलौने की दुकान के सामने खड़ी होकर किसी चीज को एकटक देख रही है।

लडका पीछे आकर अपनी छोटी बहन से पूछता है,
“कुछ चाहिये तुम्हें?”

लड़की एक गुड़िया की तरफ उंगली उठाकर इशारा करके देखती है।

5 साल का छोटा बच्चा अपनी छोटी बहन का साथ पकड़ता है,
और एक जिम्मेदार बड़े भाई की तरह अपनी बहन को वह गुड़िया देता है।
छोटी बहन बहुत खुश हो गई।

दुकान का मालिक यह सब देख रहा था,
बच्चे का साहसी व्यवहार देखकर आश्चर्यचकित को गया….

अब वह 5 साल का बच्चा अपनी बहन के साथ काउंटर पर आया और दुकानदार से पूछा,
“सर, इस गुड़‍िया की कीमत क्‍या है?”

दुकान का मालिक एक शांत और गहरा व्यक्ति था,
उसने अपने जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखे थे, उन्होंने बड़े ही प्यार और अपनत्व से बच्चे से पूछा,
“बताओ बेटे, आप इस गुड़‍िया की क्‍या कीमत दे सकते हो ??”

दुकानदार की बात सुनकर बच्चा अपनी जेब से वो सारी
सीपें बाहर निकालकर दुकानदार को देता है,
जो उसने थोड़ी देर पहले बहन के साथ समुंदर किनारे से चुन-चुन कर बीनी थी!

दुकानदार वो सब लेकर यूँ गिनता है जैसे कोई पैसे गिन रहा हो।

दुकानदार सीपें गिनकर वो बच्चे की तरफ देखने लगा तो बच्चा बोला,
“सर कुछ कम हैं क्या ??”

दुकानदार:- “नहीं-नहीं, ये तो इस गुड़िया की कीमत से भी ज्यादा है,
“यह कहकर उसने 4 सीपें रख ली और बाकी की बच्चे को वापिस दे दी।

बच्चा बड़ी खुशी से वो सीपें जेब मे रखकर अपनी बहन के साथ चला जाता है।

यह सब उस दुकान का नौकर देख रहा था,
उसने बड़े ही आश्चर्य से मालिक से पूछा,
” मालिक! इतनी महंगी गुड़िया आपने केवल 4 सीपों के बदले मे दे दी? ”

दुकानदार एक स्मित संतुष्टि वाला हास्य करते हुये बोला,
“हमारे लिये ये केवल सीप है पर उस 5 साल के बच्चे के लिये बहुत मूल्यवान है
और वह बच्‍चा अभी इस उम्र में नहीं जानता, कि पैसे क्या होते हैं?
पर जब वह बड़ा होगा ना और जब उसे याद आयेगा कि उसने सीपों के बदले
अपनी छोटी बहन को गुड़िया खरीदकर दी थी,
तब उसे मेरी याद जरुर आयेगी, और फिर वह सोचेगा कि…
“यह संसार अच्छे लोगों से भी भरा हुआ है।”

यही बात उसके अंदर सकारात्मक दृष्टिकोण बढानेे में मदद करेगी और वो भी एक अच्छा इंन्सान बनने के लिये प्रेरित होगा….


English Summery: Chaar Seepein Ek Gudiya Ki Keemat, Prernadayak Laghu Kathayen Story in Hindi, Short Moral Story in Hindi for Kids, Naitik Shiksha Stories

comments
  • Very very cute story

  • Leave a Reply

    Create Account



    Log In Your Account



    error: Content is protected !!