फाइब्रोमायल्जिया शरीर के कई हिस्‍सों में दर्द।

फाइब्रोमायल्जिया एक गंभीर बीमारी है। इसमें शरीर की सभी छोटी-बड़ी व नाजुक हड्डियों और मांसपेशियों में तेज दर्द की समरूया होती है। इस बीमारी में हल्‍के दबाव की वजह से भी मरीज को दर्द की समस्‍या होती है। इस बीमारी में हल्‍के दबाव की वजह से भी मरीज को दर्द महसूस होता है। शरीर में दर्द होने के चलते बीमारी की चहचान के कई ट्रिगर पॉइन्‍ट भी होते हैं। जानें रोग के कारण व लक्षण के बारे में:-

Fibromyalgia Trigger Points Casue Symptoms in Hindi
Fibromyalgia Trigger Points

फाइब्रोमायल्जिया के ये हैं ट्रिगर पॉइंट्स (Fibromyalgia Trigger Points)

इसमें दर्द होना आम है। सिर के पीछे, कंधों के ऊपरी हिस्‍से में, सीने के ऊपरी भाग में, कूल्‍हों, घुटने, कोहनी के बाहरी हिस्‍से में दर्द होना रोग की ओर इशारा करता है। यह दर्द तभी रोग की आशंका बढ़ाते हैं जब ये तीन माह से ज्‍यादा समय के लिए हों।

फाइब्रोमायल्जिया के कारण (Cause of Fibromyalgia in Hindi)

आनुवांशिकता रोग की वजह हो सकती है। किसी प्रकार का संक्रमण, हार्मोनल और दिमाग में रासायनिक गड़बड़ी से दिमाग शरीर को सही निर्देश नहीं दे पाता। कई मामलों में पोस्‍ट ट्रॉमेटिक स्‍ट्रेस डिसऑडर्र (किसी धटना के बाद उससे संबंधित तनाव की स्थिति) की वजह से भी दिमाग पर असर पड़ता है।

फाइब्रोमायल्जिया के लक्षण (Symptoms of Fibromyalgia in Hindi)

मानसिक और शारीरिक कार्यों में तालमेल न बैठा पापा प्रमुखी परेशानी बनकर उभरती है। शरीर के किसी हिस्‍से में अचानक दर्द होना, थकान, नींद न आने की समस्‍या, लंबे समय तक नींद लेने के बाद रिलेशन महसूस न करना सिरदर्द, तनाव, बेचैनी, एकाग्रता में कमी, पेट के निचले हिस्‍से में दर्द होना।

फाइब्रोमायल्जिया से किसे ज्‍यादा खतरा (Fibromyalgia Risk)

पुरुषों की तुलना में महिलाएं इससे अधिक प्रभावित होती हैं। जिन्‍हें रोगी की फैमिली हिस्‍ट्री रही हो उन्‍हें भी इसका खतरा बना रहता है। यह आर्थराइटिस का रूप नहीं है लेकिन जो लोग ऑटोइम्‍यून रोग से पीड़‍ित हैं उनमें इसकी आशंका बनी रहती है।


डॉ. ऊमा कुमार,
विभागाध्‍यक्ष, रुमेटोलॉजी, एम्‍स हॉस्पिटल, नई दिल्‍ली।


Know Fibromyalgia Trigger Points, Casue, Symptoms in Hindi




Related...



Leave a Reply