जानें आपके झड़ते बाल क्या कहते हैं?

Know About Your Hair Fall in Hindi

बाल बिना रूप सूना! सो बालों से जुड़ी कुछ महत्‍वपूण बातें जानें और उनके अनुसार बालों की साज-संभाल करें।

कई बार सिर के बाल सामान्‍य रूप से झड़ते हैं, तो कभी उनका झड़ना बालों के किसी रोग या अन्‍य बड़ी बीमारी की ओर इशारा भी होता है। ऐसे में बालों व शरीर के बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जानना जरूरी है कि कब उन्‍हें लेकर चिंता की जाए और कब नहीं, ताकि समय पर सही उपचार लिया जा सके।

1. इतना सामान्‍य है:-

एक स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति के मामले में प्रतिदिन 50 से 100 बाल झड़ना सामान्‍य है। आमतौर पर पुरूषों के छोटे बाल होने से कंघी करने व बालों में हाथ फेराने पर झड़े बाल कम ही दिखाई देते हैं। हालांकि प्रत्‍येक बार ऐसा करने पर 5-6 बाल गिर जाएं, तो इसे सामान्‍य न मानें। महिलाओं के बाल लंबे होने से थोड़े-बहुत झड़ने पर ही नज़र आ जाते हैं। हर बार कंघी करने पर बाल गुच्‍छे में निकल जाएं तो उपचार के लिए चिकित्‍सक की सलाह जरूर लें।

2 क्‍या हैं कारण:-

बालों का झड़ना कई कारणों से होता है। पुरुषों में आमतौर पर आनुवंशिक कारण होते हैं, जैसे- परिवार में पहले किसी को बालों में समस्‍या रही है। दूसरी तरफ, यह समस्‍या महिलाओं में बेहद कम देखी जाती है, लेकिन प्रसव के बाद ऐसा होना आम हैं, जिसे टिलोजेन एफ्लूवियम कहते हैं। यह स्‍वयं ठीक भी हो जाती है। परंतु बालों का झड़ना बहुत ज्‍यादा लगे तो चिकित्‍सक की सलाह ली जा सकती है। इन परिस्थितियों के अतिरिक्‍त लगातार बड़ी संख्‍या में बाल झड़ते हैं, तो यह बालों से संबंधित कुपोषण, त्‍वचा संक्रमण, यहां तक कि कुछ गंभीर रोगों की ओर संकेत करता है, ऐसे में चिकित्‍सक को दिखाकर उपचार लेना चाहिए।

3 – जब एक जगह के बाल झड़ें:-

आमतौर पर पुरुषों में बालों के झड़ने की शुरूआत सिर के सामने की ओर से होती है, जिसे हम सामान्‍य गंजापन कहते हैं। यह हॉर्मोन के असंतुलन, अनियमित जीवन शैली व दवाओं के सेवन, अनुवांशिक कारक जैसी कई वजहों से होता है। महिलाओं में यह समस्‍या सिर के ठीक ऊपर बीच में दिखाई देती है। इसमें धीरे-धीरे बाल कम होते जाते हैं। इसे पूरी तरह रोकना मुश्किल होता है, पर इसे उपचार के जरिए धीमा किया जा सकता है। यदि किसी एक जगह से बाल बहुत ज्‍यादा झड़ें, तो सचेत हो जाना चाहिए। यह दो समस्‍याओं का संकेत है, पहला- एलोपेशिया एरेटा और दूसरा- फंगल इंफेक्‍शन। एलोपेशिया एरेटा स्‍वप्रतिरक्षित रोग के चलते होता है, जिसमें शरीर स्‍वयं कोशिकाओं को नष्‍ट करने लगता है। वही गंदे टॉवेल, कंघी, मिट्टी के जरिए या संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आने से बालों में फंगल संक्रमण की आशंका होती है। परंतु उपचार लेने पर दोनों ही अवस्‍थाओं में बाल वापस आ जाते हैं।

4 – इन बीमारियों की ओर इशारा:-

लगातार व लंबे समय तक बालों के झड़ने को नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए। यह शरीर में हीमोग्‍लोबिन, कैल्शियम, विटामिन डी और बी12 की कमी को दर्शाता है। थायरॉयड के असंतुलन, तनाव, टायफाइड या पीलिया होने पर भी बाल ज्‍यादा झड़ते हैं। इसके साथ ही बालों को झड़ना बड़ी बीमारियों जैसे कि कैंसर, किडनी व लीवर संबंधी रोगो की ओर भी एक इशारा है।

5 – देखभाल कैसे हो:-

स्‍वस्‍थ बालों के लिए खानपान में सभी प्रकार की हरी सब्जियां, फलों व अनाज का नियमित सेवन करें, जिससे प्रोटीन, लौह, जिंक, ओमेगा3 फैटी एसिड जैसे जरूरी पोषक तत्‍व मिल सकें। साथ ही सप्‍ताह में दो बार बालों में शैम्‍पू व कंडीशनर जरूर करें। इसके अतिरिक्‍त घर के प्रत्‍येक व्‍यक्ति को टॉवेल, कंघी व अन्‍य सौंदर्य प्रसाधनों को अन्‍य लोगों के साथ साझा करने से बचना चाहिए।


English Summery: Balo Ka Tutna in Jhadna Kyo Hota, Balon Ki Hifazat Kaise Kare, Hair Care Tips in Hindi, Know About Your Hair Fall in Hindi, Hair Loss Reasons in Hindi, Balo Ki Dekh bhal ke Tips



Related Posts


Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!