बड़े काम की हैं, नीम की पत्तियां!!

त्‍वचा को निखारने से लेकर घर के कई कामों को संवारने तक काम आती हैं नीम की पत्तियां।

नीम सिर्फ एक पेड़ का नाम ही नहीं, बल्कि सेहत का खजाना भी है। लेकिन शायद ही आपको यह मालूम हो कि नीम आपके आंतरिक स्‍वास्‍थ्‍य के साथ-साथ बाहरी सुंदरता के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। चाहे पिपंल्‍स, ब्‍लैकहेड्स या फिर फाइन लाइंस की समस्‍या हो या फिर डेंड्रफ या हेयरफॉल से परेशान हों, नीम आपकी मदद कर सकता है। नीम की पत्तियां घरों में कई तरह से काम आती हैं। लेकिन जरूरत है तो इसके गुणों को समझकर इस्‍तेमाल करने की। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं गुणों की खान नीम की पत्तियों के बारे में।

नीम की दातून दांतों के लिए फायदेमंद:-
नीम की दातून हमारे दांतों के लिए काफी फायदेमंद होती है। नीम की दातून एक माउथफ्रेशनर का काम करती है, जिससे मुंह से आने वाली दुर्गंध से राहत पाई जा सकती है। इसका प्रयोग करके हम अपने दांतों को मजबूत बना सकते हैं। इसके लिए मार्केट में मिलने वाली दातून की बजाय नीम के पेड़ से तोड़कर तुरंत बनाई गई दातून का प्रयोग करना ज्‍यादा उचित होता है।

रूखी त्‍वचा हो तो करें यह उपाय:-
अगर स्किन बहुत ड्राई है तो नीम फेसपैक लगाएं। इसमें कुछ मॉइश्‍चराइजिंग तत्‍व होते ळैं जो ड्राई स्किन को खुरदरी होने से बचाते हैं। थोड़ा सा नीम का पाउडर लें और उसमें कुछ बूंदें ग्रेपसीड ऑयल की मिला लें। इसे अपने चेहरे पर लगाएं और दो से तीन मिनट के बाद ठंडे पानी से धो लें। एक हफ्ते में एक या दो बार इसे दोहराएं और फिर फर्क देखें।

स्‍किन के लिए उपयोगी होता है नीम:-
नीम की पत्तियां त्‍वचा की सुंदरता बढ़ाने में मददगार हो सकती हैं। नीम की पिसी हुए पत्तियां और हल्‍दी मिलाकर लगाने से मुंहासे, फुंसी आदि ठीक होते हैं। नीम की पत्त्यिां डालकर उबाला हुआ पीनी स्किन टोनर की तरह काम करता है। इसका फेस पैक भी बनाया जा सकता है। इसके लिए थोड़े से पानी में कुछ नीम की पत्तियां और संतरे के छिलके उबाल लें। छानकर पानी ठंडा कर लें। इसमें मुल्‍तानी मिट्टी, दही, शहद और दूध मिलाकर मुलायम पेस्‍ट बना लें। इसे चेहरे पर लगाकर सूखने दें फिर धो लें। इससे चेहरे पर चमक आ जाती है और फोड़े व फुंसी, ब्‍लैकहेड आदि दूर होते हैं। अगर आप खाना बनाते वक्‍त या किसी दूसरे कारण से अपना हाथ जला बैठी हैं तो तुरंत उस जगह पर नीम की पत्तियों को पीसकर लगाएं।

संक्रमण को फैलने से रोकती हैं:-
त्‍वचा के रोगों में नीम की पत्त्यिों को पानी में उबालकर इस पानी से नहाने से बहुत लाभ होता है। इससे त्‍वचा की खुजली या जलन आदि में भी आराम मिलता है। यह पानी पीने से पेट के कीड़े नष्‍ट होते हैं और आंतों की कार्यविधि सुधरती है। लेकिन अगर किसी प्रकार का रोग हो तो बिना डॉक्‍टरी सलाह के नीम का प्रयोग करने से बचना चाहिए। नीम की सूखी हुई पत्तियों का धुआं करने से मच्‍छर दूर भागते हैं। इनका प्रयोग गमलों में खाद के लिए भी किया जा सकता है।

यह भी है लाभ:-

  • नीम की पत्त्यिों को अलमारी में रखने से कपड़ों में कीड़े नहीं लगते। इन्‍हें गेहूं या चावल आदि के ड्रम या पीपे में नीचे बिछाने से उनमें भी कीड़े लगने का डर नहीं रहता।
  • नीम की सूखी हुई पत्त्यिों से तैयार खाद का प्रयोग करने से फसल को कई प्रकार के कीटों से बचाव होता है।
  • घर में गमलों में लगाए जाने वाले पौधे पर पानी में नीम का तेल डालकर छिड़काव करने से पौधे पर लगे कीट नष्‍ट हो जाते हैं।
  • नीम का तेल लगाने से मांसपेशियों के दर्द तथा जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।
  • नीम एक औषघि है। किसी भी औषधि को लेने के कुछ नियम परहेज आदि होते है अन्‍यथा औषधि नुकसानदेह भी हो सकती है।
  • अगर नीम की पत्त्यिों को इस्‍तेमाल करने के बाद आपको उल्‍टी, दस्‍त, चक्‍कर आना, बेहोशी आदि लक्षण हो तो इस्‍तेमाल फौरन बंद कर देना चाहिए।

Neem Leaves Health Benefits for Hair, Skin, Pimples in Hindi, Neem Ki Patti / Pattiyo Ke Fayde in Hindi, Best Health Care Tips in Hindi




Related...



Leave a Reply