बथुआ (Bathua / चाकवत) कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। डॉक्‍टरों के मुताबिक इसमें आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह रुचिकर, पाचक, रक्तशोधक, दर्दनाशक, त्रिदोषशामक, शीतवीर्य तथा बल एवं शुक्राणु वर्धक है। बथुआ की साग को नियमित रूप से खाने से कई रोगों को जड़ से तक समाप्‍त किया जा सकता है।
Complete Reading

तिल 3 प्रकार के होते है। सफेद, काले और लाल। आयुर्वेद के अनुसार सभी तिलों की किस्‍मों में काले तिल सर्वश्रेष्‍ठ हैं। ऐसे में कई औषधियों के निर्माण में काले तिल का सबसे ज्‍यादा प्रयोग होता है। इसमें कैल्शियम काफी होता है और इसके तेल से बने पदार्थ बेहद उपयोगी होते है जो खासकर बच्‍चों
Complete Reading

नीम का पेड़ न केवल छाया देने के काम आता है बल्कि इसकी पत्तियां व टहनियां आपको रोगों से बचाने में उपयोगी हो सकती हैा • नीम एक प्राकृतिक कीटनाशक के रूप में काम करता है। इसके कोई द़ष्‍प्रभाव नहीं होते हैं। यह शरीर के रक्‍त को शुद्ध करने का काम करता है। • नीम
Complete Reading

यूं तो हिचकी आना सामान्‍य बात होती है, लेकिन लगातार हिचकी आना एक तरह की बीमारी होती है। ऐसी हिचकी को रोकना मुश्‍किल होता है। कई बार गले में कुछ फंसने, मौसम में बदलाव या तेज मिर्च मसाला खाने से हिचकियां शुरू हो जाती हैं। इससे बचने के लिए कुछ घरेलु नुस्‍खे अपनाए जा सकते
Complete Reading

गिलोय उच्‍च कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को कम करने के लिए शर्करा का स्‍तर बनाए रखने में मदद करती है। यह दिल से संबंधित बीमारियों से बचाए रखता है। आयुर्वेद हो या एलोपैथी गिलोय के फायदों पर सभी एकमत हैं। दुनिया भर में हुए शोधों में साबित हो चुका है कि गिलोय किसी अमृत से कम
Complete Reading

काले चने साबुत या अंकुरित दोनों ही फायदेमंद है। कब्‍ज, डायबिटीज, एनिमिया, हृदय रोगियों के लिए काला चना लाभदायक है तो त्‍वचा निखारता है और कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर घटाता है। कई शोधों में यह साबित हो गया है कि काले चने का अगर नियमित सेवन किया जाए तो कई बीमारियों से मुक्ति मिल सकती है।
Complete Reading

आयुर्वेद के खजाने में एक दवा यानी की हरड़ में कई बीमारियों को मात देने की क्षमता है। इन रोगों में लाभदायक:- त्‍वचा के रोग, गला बैइ जाना, पुराना बुखार, सिर के रोग, आंखों के रोग, खून की कमी, हृदय रोग, पीलिया, शरीर में सोज पड़ना, प्रमेह रोग, उल्‍टी आना, पेट में कीड़े होना, दमा,
Complete Reading

कब्‍ज एक आम समस्‍या बनती जा रही है। लगातार कब्‍ज रहने से आगे जाकर यह गंभीर रूप ले लेती है। सिर भारी होना, जी मचलाना, बुखार सा रहना, मुंह में पानी आने की शिकायत रहने लगती है। कुछ बातों का ख्‍याल रख के कब्‍ज से बचाव किया जा सकता है। न हो पानी की कमी:-
Complete Reading

भारतीय भोजन का प्रमुख अंग है लाल मिर्च। कई लोग समझते हैं लाल मिर्च सेहत के लिए हानिकारक है लेकिन ऐसा नहीं है। लाल मिर्च में पाए जाने वाले तत्‍व सेहत के लिए फायदेमंद है। वजन कम करने में लाल मिर्च सहायक है। लाल मिर्च कैलौरी बर्न करने में मददगार होती है। इसमें ऐसे तत्‍व
Complete Reading

सूरजमुखी के बीज स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। दरअसल सूरजमुखी के बीजों में कोलेस्‍ट्रॉल और सोडियम की मात्रा कम होती है। साथ ही इनमें विटामिन बी6, थाइमिन, मैग्‍नीशियम, काॅपर, फॉस्‍फोरस, मैंगनीज, और सेलेनियम के अलावा विटामिन ई ( अल्‍फा टोकोफेरॉल) भी बहुत उच्‍च मात्रा में पाया जाता है। इसलिए अपनी बॉडी में
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!