काले चने साबुत या अंकुरित दोनों ही फायदेमंद है। कब्‍ज, डायबिटीज, एनिमिया, हृदय रोगियों के लिए काला चना लाभदायक है तो त्‍वचा निखारता है और कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर घटाता है। कई शोधों में यह साबित हो गया है कि काले चने का अगर नियमित सेवन किया जाए तो कई बीमारियों से मुक्ति मिल सकती है।
Complete Reading

आयुर्वेद के खजाने में एक दवा यानी की हरड़ में कई बीमारियों को मात देने की क्षमता है। इन रोगों में लाभदायक:- त्‍वचा के रोग, गला बैइ जाना, पुराना बुखार, सिर के रोग, आंखों के रोग, खून की कमी, हृदय रोग, पीलिया, शरीर में सोज पड़ना, प्रमेह रोग, उल्‍टी आना, पेट में कीड़े होना, दमा,
Complete Reading

कब्‍ज एक आम समस्‍या बनती जा रही है। लगातार कब्‍ज रहने से आगे जाकर यह गंभीर रूप ले लेती है। सिर भारी होना, जी मचलाना, बुखार सा रहना, मुंह में पानी आने की शिकायत रहने लगती है। कुछ बातों का ख्‍याल रख के कब्‍ज से बचाव किया जा सकता है। न हो पानी की कमी:-
Complete Reading

भारतीय भोजन का प्रमुख अंग है लाल मिर्च। कई लोग समझते हैं लाल मिर्च सेहत के लिए हानिकारक है लेकिन ऐसा नहीं है। लाल मिर्च में पाए जाने वाले तत्‍व सेहत के लिए फायदेमंद है। वजन कम करने में लाल मिर्च सहायक है। लाल मिर्च कैलौरी बर्न करने में मददगार होती है। इसमें ऐसे तत्‍व
Complete Reading

सूरजमुखी के बीज स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। दरअसल सूरजमुखी के बीजों में कोलेस्‍ट्रॉल और सोडियम की मात्रा कम होती है। साथ ही इनमें विटामिन बी6, थाइमिन, मैग्‍नीशियम, काॅपर, फॉस्‍फोरस, मैंगनीज, और सेलेनियम के अलावा विटामिन ई ( अल्‍फा टोकोफेरॉल) भी बहुत उच्‍च मात्रा में पाया जाता है। इसलिए अपनी बॉडी में
Complete Reading

अंजीर (Common fig) स्‍वादिष्‍ट और स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक फल है। इसके नियमित सेवन से आप स्‍वस्‍थ और फिट रह सकते हैं। यह वजन घटने के साथ ही डायबिटीज, कैंसर, कफ, अस्‍थमा और पेट संबंधी बीमारियों को दूर करने में असरदार होता है। यह आयरन की कमी को भी दूर करता है। दरअसल अंजीर में विटामिन्‍स, मिनरल्‍स और
Complete Reading

गर्मियों के मौसम में नाक में खुश्‍की (dryness) हो जाती है, सूखी परत जमने लगती है, सामान्‍यत: बच्‍चे और कई बार बड़े नाक में उंगली डालने लगते हैं। जिस वजह से नाक में से खून आने लगता है साथ ही ब्‍लड प्रेशर हाई होने से बुजुर्गों की नाक से खून आ जाता है। नाक से
Complete Reading

स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति के शरीर में लोहे की मात्रा वजन के अनुसार 3-5 ग्राम होनी चाहिए। लेकिन जब शरीर में यह मात्रा कम हो जाती है तो व्‍यक्ति में हीमोग्‍लोबिन बनना कम हो जाता है जो खून की कमी दर्शाता है। मेडिकली इसे एनीमिया (Anemia) कहते हैं। इससे शरीर में ऊर्जा की कमी होने के साथ
Complete Reading

अक्‍सर लोगों को मौसम में थोड़े से परिवर्तन से भी जुकाम जैसी समस्‍या हो जाती है और उनकी नाक बंद हो जाती है, लेकिन ऐसी स्थिति लंबे समय तक रहती है तो इसे हल्‍के में नहीं लेना चाहिए। यह साइनस की समस्‍या भी हो सकती है। साइनस में नाक बहती है, आंखों में दर्द होता
Complete Reading

सर्दी-जुकाम खांसी श्‍वसन प्रणाली के अवयवों से संबंधित बीमारियां हैं। सर्दी नाक से शुरू होकर गला, श्‍वास नलिकाएं कान तक पहुंचती है और फेफडों में पहुंचकर अस्‍थमा में तब्‍दील हो जाती है। ऐसे में प्राकृतिक उपचार की मदद से राहत पाई जा सकती है। क्‍या है लक्षण:- नाक में खुश्‍की, छीकों का आना, गले में
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!