असली चेहरा! अंतरराष्‍ट्रीय महिला दिवस पर सोसाइटी की चार वायोव़द्ध महिलाओं को संमानित करके सोसाइटी के सचिव भरत जी ने तमाम महिलाओं के मन में अपनी एक खास जगह बना ली थी। अपने उद्बोधन में जब उन्‍होंने कहा था कि न सिर्फ हमें स्‍वयं हर महिला का सम्‍मान करना चाहिए बल्कि अपने बच्‍चों को भी
Complete Reading

रात के दो बजे एक कुत्ता झोपड़ी के आगे उदास बैठा था! दूसरा कुत्ता आया और बोला:- रोज तो खूब भौकता है, आज चुप क्‍यों बैठा है? उदास कुत्ता बोला:- रोटी तो कई बार नहीं मिलती है…. सामने वाली उस झोपड़ी को देख रहे हो ? दूसरा कुत्ता बोला:- हां-हां, उसे में तो दो शैतान
Complete Reading

बीती रात तनाव भरी गुजरने की वजह से सुबह आंख करीब दस बजे खुली। बच्‍चे कॉलेज जा चुके थे। बॉस के शब्‍द अभी भी उसके कानों में गूंज रहे थे ” प्रकाश जी आप आदमी हैं या गधे, एक काम आपसे ढंग से नही होता!” उसने शीशे में खुद को गौर से देखा फिर गहरी
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!