Latest

सांसों की बदबू हो सकती है ये वजह!

सांसों की बदबू हो सकती है ये वजह!

Health Care
बहुत ही कम लोग इस बात को जानते है कि सांसों से आने वाली दूर्गध / बदबू का संबंध सिर्फ मुंह या दांतों से ही नहीं है। ऐसी कई प्रकार की बीमारियां भी है जिनकी वजह से सांसो को बदबूदार कर देती है और जिसके चलते अक्सर लोग शर्मिदगी का सामना करते है। इसके बावजूद अधिकांश लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते। और न ही सही समय पर इसका इलाज करवाते हैं। आपको आज हम ऐसी ही कुछ बीमारियों के बारे में बताते है जो की सांसें में बदबू उत्‍पन्‍न करती हैं!पेट में खराबी कभी-कभी पेट की खराबी भी सांसों की बदबू का कारण बनती है। वैसे तो सांसों से आती बदबू आमतौर पर मुंह से जुड़ी होती है, लेकिन कई बार शरीर के किसी भी हिस्सेा में आने वाले बदलाव के कारण भी यह समस्याद हो सकती है। पेट की समस्याे एसिड रिफ्लक्स होने पर शरीर की पाचन क्रिया ठीक नहीं रहती। इसमें सीने और छाती में जलन होती है। कई बार इस समस्यान से ग्रस्त व्यक्ति को घबरा
20 Best Quotes in Hindi by Dr. APJ Abdul Kalam

20 Best Quotes in Hindi by Dr. APJ Abdul Kalam

Quotes
• मैं एक सुन्दर इंसान नहीं हूँ, लेकिन मैं अपना हाथ उस किसी भी व्यक्ति को दे सकता हूँ, जिसको की मदद की जरूरत है। सुंदरता हृदय में होती है, चेहरे में नहीं। ~ अब्दुल कलाम• जिंदगी और समय, विश्व के दो सबसे बड़े अध्यापक है। ज़िंदगी हमें समय का सही उपयोग करना सिखाती है जबकि समय हमे ज़िंदगी की उपयोगिता बताता है। ~ अब्दुल कलाम• प्रश्न पूछना, विधार्थियों की सभी प्रमुख विशेषताओं में से एक है। इसलिए छात्रों सवाल पूछों। ~ अब्दुल कलाम• महान सपने देखने वालों के महान सपने हमेशा पूरे होते हैं। ~ अब्दुल कलाम• इससे पहले कि सपने सच हों आपको सपने देखने होंगे। ~ अब्दुल कलाम• "यदि हम स्वतंत्र नहीं हैं तो कोई भी हमारा आदर नहीं करेगा" ~ अब्दुल कलाम• आइये हम अपने आज का बलिदान कर दें ताकि हमारे बच्चों का कल बेहतर हो सके। ~ अब्दुल कलाम• अपने मिशन में कामयाब होने के लिए, आपको अपने लक
पुदीना ठंडा-ठंडा, कूल-कूल!! –  घरेलू नुस्खे

पुदीना ठंडा-ठंडा, कूल-कूल!! – घरेलू नुस्खे

Home Remedies
• हरा पुदीना पीसकर उसमें नींबू के रस की दो-तीन बूँद डालकर चेहरे पर लेप करें। कुछ देर लगा रहने दें। बाद में चेहरा ठंडे पानी से धो डालें। कुछ दिनों के प्रयोग से मुँहासे दूर हो जाएँगे तथा चेहरे की कांति खिल उठेगी।• बिच्छू या बर्रे के दंश स्थान पर पुदीने का अर्क लगाने से यह विष को खींच लेता है और दर्द को भी शांत करता है।• पुदीने को पानी में उबालकर थोड़ी चीनी मिलाकर उसे गर्म-गर्म चाय की तरह पीने से बुखार दूर होकर बुखार के कारण आई निर्बलता भी दूर होती है।• हैजे में पुदीना, प्याज का रस, नींबू का रस बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर पिलाने से लाभ होता है। उल्टी-दस्त, हैजा हो तो आधा कप पुदीना का रस हर दो घंटे से रोगी को पिलाएं।• हरे पुदीने की 20-25 पत्तियां, मिश्री व सौंफ 10-10 ग्राम और कालीमिर्च 2-3 दाने इन सबको पीस लें और सूती, साफ कपड़े में रखकर निचोड़ लें। इस रस की एक चम्मच मात्रा लेकर
तंबाकू की लत छुड़ाने के घरेलू उपाय नुस्खे!

तंबाकू की लत छुड़ाने के घरेलू उपाय नुस्खे!

Home Remedies
तंबाकू की आदत छुड़वाने में मनोवैज्ञानिक सलाह के अलावा निम्नलिखित घरेलू नुस्खे भी अपनाए जा सकते हैं -• बारीक सौंफ और मिश्री के दानों को मिलाकर धीरे-धीरे चूसें, नरम हो जाने पर चबाकर खा जाएं।• अजवाइन को साफ कर के नींबू के रस व काले नमक में दो दिन तक भींगने रख दें, इसे छांव में सुखाकर मुंह में रखकर चूसते रहें।• छोटी हरड़ को नींबू के रस अौर साेंधे नमक (पहाड़ी नमक) के घोल में दो दिन तक फूलने दें। इसे निकाल कर छांव में सुखाकर शीशी में भर लें और इसे चूसते रहें, नरम हो जाने पर चबाकर खा लें।• तंबाकू को सूंघने की आदत छोड़ने के लिए गर्मी के मौसम में केवड़ा, गुलाब, खस आदि के इत्र का फोहा कान में लगाएं।• सर्दी के मौसम में तंबाकू खाने की इच्छा होने पर हिना की खुशबू का फोहा सूंघें।याद रखे:- खाने की आदत को धीरे-धीरे छोड़ें! एकदम बंद न करें, क्योंकि रक्त में निकोटिन के स्तर को धीरे-धीरे
बच्चों के हरे-पीले दस्त के लिए घरेलू इलाज!

बच्चों के हरे-पीले दस्त के लिए घरेलू इलाज!

Home Remedies
1 ● जायफल, अतीस और ईसबगोल तीनोें की 10-10 ग्राम मात्रा लेकर महीन पीस लेें, बच्चे की उम्र अनुसार थोड़ी दवा लेकर चिकनी सिल पर पानी डालकर गारें। माँ के दूध में बच्चे को दें।2 ● चूने का पानी एक-एक चम्मच पिलाएँ, चूने का पानी मिट्टी के घड़े में एक सप्ताह चूना पानी भिगोने के पश्चात् निथार कर बनता है। बच्चों का ग्राइप वाटर इसका ही प्रकार है।3 ● सूखा रोग के कारण ऐसे दस्त हो रहे हों तो इतवार / बुधवार किसी भी एक दिन प्रात: काल बरगद के पेड़ की लटकती हुई हरी जड़ लेकर छोटी सी कुंडी सी बनाकर उसे नीले रंग के धागे से लपेटकर उसी दिन बालक के गले में पहना दें। ऐसा करने पर सूखा रोग से पीड़ित रोगी ठीक होगा एवं दस्त भी ठीक हो जाएँगे।
दवा के बिना बुखार कैसे कम करें? घरेलू नुस्खे!

दवा के बिना बुखार कैसे कम करें? घरेलू नुस्खे!

Home Remedies
जब कभी भी किसी बच्चे को बुखार आता है, तो बहुत से लोग फौरन दवाई के डिब्बे की ओर भगते है और कोई भी बुखार की दवाई निकाल कर दे देते हैं। बच्चों को इन सब केमिकल्स को निगलने के लिए मजबूर करने से पहले, बुखार कम करने के लिए कुछ बढ़िया एवं प्राकृतिक घरेलू नुस्खो को अपनाने का प्रयास करें। मरीज के बुखार से पीड़ित होने पर मरीज के शरीर में पानी की अधिकता और स्वच्छ रखना न भूलें, बुखार एक या दो दिन में उतर जायेगा।हम अब आपको कुछ उपाय बताने जा रहे है! जो आपको बुखार में उपयोगी साबित:-• मोजे को गीला करके उन्हें एड़ियों में पहिनना अजीब लगता है, पर बच्चों के तेज बुखार को कम करने के लिए यह अद्भुत उपाय है। एक जोड़ी सूती के मोजे लें जो बच्चे की एड़ियों को ढकने लायक लम्बेे हो, मोजे को ठंडे पानी में ठीक से गीला कर लें और अतिरिक्त पानी को निचोड़कर मोजों को बच्चे के पैरों पर रख दें और जब मोजे सूख जायें तो इस
सर्दी-जुकाम दमा खांसी खरार्टे के लिए घरेलू नुस्खे!

सर्दी-जुकाम दमा खांसी खरार्टे के लिए घरेलू नुस्खे!

Home Remedies
कुछ कुछ गेहूं जैसा दिखने वाला, जौ एक किस्म का अनाज होता है। बाजार से करीब 250 ग्राम जौ खरीद कर ले, इसे साफ कर के कडाई में डालकर मंद मंद आग पर भून ले, पर ये जरूर ध्यान रखे कि जले न पाये। इसके बाद इसे मोटा मोटा कूट या मिक्सी से पीस ले।जब भी आपको सर्दी या जुकाम हो तो 1 बड़ा चम्मच जौ का चूर्ण लेकर उसमे 1 छोटा चम्मच देशी घी मिला कर तेज गरम तवे पर डाल कर इसका धुआँ नाक से या मुँह से खींचें आराम मिलेगा। अगर आप लकड़ी के जलते हुए कोयले पर डाल कर धुआँ खीचते है तो और भी अधिक फायदा मिलेगा, धुआँ लेने के 15 मिनट पहले और 2 घंटे बाद तक ठंडा पानी न पिये, प्यास लगे तो गरम दूध पिए।ये जरूर याद रखे कि अगर आपका मुँह बार बार सूखता है और प्यास लग रही हो तो ये चिकत्सा न करें!शुरूवाती जुकाम मे जब सिर भारी हो और नाक बंद हो तब यह प्रयोग करें और चमत्कार देखें, 5 मिनट मे फायदा होगा। खांसी, दमे मे इन्हेलर कि तर
हींग के कुछ खास फायदे – घरेलू नुस्खे

हींग के कुछ खास फायदे – घरेलू नुस्खे

Home Remedies
हींग केवल रसोई में काम आने वाला मसाला ही नहीं है, यह एक बेहतरीन औषधि भी है। भारत में कई सौ सालों से मसाले के रूप में हींग का उपयोग किया जा रहा है। हींग फेरूला-फोइटिडा नाम के पौधे का रस है। इस पौधे के रस को सुखाकर हींग बनाई जाती है। इसके पौधे 2 से 4 फीट तक ऊंचे होते हैं। ये पौधे विशेष रूप से ईरान, अफगानिस्तान, तुर्कीस्तान, बलूचिस्तान, काबुल और खुरासान के पहाड़ी क्षेत्रों में होते हैं। महर्षि चरक के अनुसार हींग दमा के रोगियों के रामबाण औषधि, कफ का नाश करने वाली, गैस की समस्या से राहत देने वाली, पक्षघात के रोगियों के लिए फायदेमंद व आंखों के लिए भी बेहद लाभदायक होती है।तो आज आप जानिए हींग के कुछ खास उपयोग-• खाने में हींग के रोज सेवन से महिलाओं के गर्भाशय का संकुचन होता है और मासिक धर्म से जुड़ी परेशानियां दूर हो जाती हैं।• हींग को पानी में मिलाकर घुटनों पर लगाने से घुटनों का दर्द
गर्मी में प्याज खाने के फायदे!

गर्मी में प्याज खाने के फायदे!

Health Care
गर्मी में प्याज खाने के फायदे जानेंगे तो रोज खाएंगे! प्याज का उपयोग सलाद के रूप में किया जाता है, गर्मियों में प्याज का सेवन बहुत लाभदायक माना जाता है। गर्मियों में रोज प्याज खाने से लू नहीं लगती, साथ ही गर्मियो में होने वाली कुछ अन्य बीमारियों भी दूर रहती हैं। अगर आपको डर लगता है कि प्याज के खाने से मुंह से दुर्गंध आएगी तो खाने के बाद माउथ फ्रेशनर खाइए या ब्रश कर लीजिए, पर प्याज जरूर खाये। आहार विशेषज्ञों की मानें तो प्याज यौन दुर्बलता को दूर करने में भी बहुत उपयोगी है। यौन शक्ति के संवर्धन एवं संरक्षण के लिए प्याज एक सस्ता एवं सुलभ विकल्प है।आइए, आज हम आपको बताते हैं प्याज के कुछ ऐसे ही उपयोग और गुणों के बारे में, जिन्हें अपनाकर आप कई समस्याओं से मुक्ति पा सकते हैं।प्रति 100 ग्राम प्याज में पाए जाने वाले पोषक तत्व:- प्रोटीन 1.2 ग्राम कार्बोहाइड्रेट 11.1 विटामिन 15 मि.ग्रा. व
कच्चे व हरे आमों के स्वास्थ्य लाभ!

कच्चे व हरे आमों के स्वास्थ्य लाभ!

Health Care
एसिडिटी के लिए! यदि आपको एसिडिटी या छाती में जलन की समस्या है तो एसिडिटी को कम करने के लिए एक कच्चा आम रोजाना सेवन करें।मॉर्निंग सिकनेस! गर्भवती महिलाओं को आचार या अन्य खट्टा खाने का मन करता है। इसलिए कच्चे हरे आम से मॉर्निंग सिकनेस को दूर किया जा सकता है।ऊर्जा दायक! क्या आप जानते हैं कि कच्चे आम में अच्छी खासी ऊर्जा होती है। अनुभवी लोग कहते हैं कि दोपहर के आलसीपन को कम करने के लिए दोपहर का खाना खाने के बाद में एक कच्चा आम खाना चाहिए।कच्चा आम लिवर के लिए अच्छा होता है! लिवर से संबंधित विकारों को कम करने में कच्चा आम काफी मददगार होता है। एक हरा आम रोजाना खाने से पित्त अम्ल का स्त्राव ज्यादा होता है और यह आंतों को बैक्टीरिया के संक्रमण से दूर रखता है।घमौरी नाशक! कच्चा आम न केवल घमौरियों के लिए अच्छा है बल्कि इसमें कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो आपको सूर्य के प्रभाव से बचाते है
error: Content is protected !!