Shadow

Latest

मानव मस्तिष्क के रोचक तथ्य!

मानव मस्तिष्क के रोचक तथ्य!

General Knowledge
⇒ हमारा दिमाग 75% से ज्यादा पानी से बना होता है।⇒ दिमाग में 1,00,000 मील लंम्बी रक्त वाहिकाएँ होती हैं।⇒ 30 साल की आयु के बाद हमारा दिमाग सुकड़ने लगता है।⇒ आप के दिमाग में हर दिन औसतन 60,000 विचार आते हैं।⇒ मनुष्य का दिमाग का वजन लगभग 1500 ग्राम तक होता है।⇒ हँसते समय हमारे दिमाग के लगभग 5 हिस्से एक साथ कार्य करते हैं।⇒ मानव का दिमाग computer से भी ज्यादा तेज प्रतिक्रिया करता है।⇒ पढ़ने और बोलने से एक बच्चो का दिमागी विकास ज्यादा होता है।⇒ मानव दिमाग के अंदर एक सैकेंड में 1 लाख रसायनिक प्रतिक्रियायें होती हैं।⇒ एक जिन्दा दिमाग बहुत नर्म होता है और इसे चाकु से आसानी से काटा जा सकता है।⇒ वैज्ञानिक मानते हैं कि ब्रह्माण्ड में सबसे जटिल और रहस्मई चीज मनुष्य का दिमाग है।⇒ मनुष्य के दिमाग में दर्द की कोई भी नस नही होती इसलिए वह कोई दर्द नही महसूस नही क
बेटी आखिर बेटी होती है!! जरूर पढ़े !

बेटी आखिर बेटी होती है!! जरूर पढ़े !

Stories
एक गरीब परिवार में एक सुंदर सी बेटी ने जन्म लिया, बाप दुखी हो गया बेटा पैदा होता तो कम से कम काम में तो हाथ बटाता, उसने बेटी को पाला जरूर, मगर दिल से नही वो पढने जाती थी तो ना ही स्कूल की फीस टाइम से जमा करता, और ना ही कापी किताबों पर ध्यान देता था, अक्सर दारू पी कर घर में कोहराम मचाता था।उस लड़की की माँ बहुत अच्छी व बहुत भोली भाली थी वो अपनी बेटी को बडे लाड प्यार से रखती थी, वो पति से छुपा-छुपा कर बेटी की फीस जमा करती और कापी किताबों का खर्चा देती थी। अपना पेट काटकर फटे पुराने कपडे पहन कर गुजारा कर लेती थी, मगर बेटी का पूरा खयाल रखती थी पति अक्सर घर से कई कई दिनों के लिये गायब हो जाता था। जितना कमाता था दारू मे ही फूक देता था !!वक्त का पहिया घूमता गया...बेटी धीरे-धीरे समझदार हो गयी, दसवीं क्लास में उसका एडमिशन होना था, मॉ के पास इतने पैसै ना थे जो बेटी का स्कूल में दाखिला करा
संसार मे अच्छाई और बुराई दोनों है!

संसार मे अच्छाई और बुराई दोनों है!

Stories
एक स्कूल में टीचर ने अपने छात्रो को एक कहानी सुनाई और बोली एक समय की बात है की एक छोटे समुद्री जहाज पर पति पत्‍नी का एक जोड़ा सफर कर रहा था, जहाज बीच समुद में जाकर दुर्घटना ग्रस्त हो गया और डूबने लगा, उन्होने देखा की जहाज पर एक लाइफबोट है पर उसमें सिर्फ एक ही व्यक्ति बैठ सकता था, जिसे देखते ही वो आदमी अपनी पत्नी को धक्का देते हुए खुद कूद कर उस लाइफबोट पर बैठ गया, उसकी पत्नी जोर से चिल्ला कर कुछ बोली...टीचर ने बच्चो से पूछा की तुम अनुमान लगाओ वो चिल्लाकर क्या बोली होगी?बहुत से बच्चो ने लगभग एक साथ बोला की वो बोली होगी तुम बेवफा हो, मे अंधी थी जो तुमसे प्यार किया, मे तुमसे नफरत करती हूँ।तभी टीचर ने देखा की एक बच्चा चुप बैठा है और कुछ नहीं बोल रहा, उसने उसे बुलाया और कहा बताओ उस महिला ने क्या कहा होगा। तो वो बच्चा बोला मुझे लगता है की उस महिला ने चिल्लाकर कहा होगा की "अपने बच्चे क
जाने मानव शरीर से संबंधित कुछ संख्यात्मक तथ्य!

जाने मानव शरीर से संबंधित कुछ संख्यात्मक तथ्य!

General Knowledge
1 श्वसन गति 16 बार प्रति मिनिट2 हृदय गति 72 बार प्रति मिनिट3 ह्दय की दो धड़कनों के बीच का समय 0.8 से.4 एक श्वास में खीची गई वायु 500 मि.मी.5 महिलाओं के ह्‌दय का भार 250 ग्राम6 ह्दय का भार 300 ग्राम7 शरीर का तापमान 37 डीग्री 98.4 फ़ारेनहाइट8 दंत सूत्र 2:1:2:39 रक्तदाव 120/8010 पसलियों की संख्या 2411 लाल रक्त कणिकाओं की आयु 120 दिन12 श्वेत रक्त कणिकाओ की आयु 1 से 3 दिन13 चेहरे की अस्थियां 1414 हथेली की अस्थियां 1415 खोपड़ी में अस्थियां 2816 पंजे की अस्थियां 517 गर्दन में कोशिकाएं 718 कशेरुकाओ की संख्या 3319 सुनने की क्षमता 20 से 120 डेसीबल20 कुल दांत 3221 दूध के दांतों की संख्या 2022 अक्ल दाढ निकलने की आयु 17 से 25
जानवरों से संबंधित रोचक जानकारी!

जानवरों से संबंधित रोचक जानकारी!

General Knowledge
► घोड़े खड़े-खड़े ही नींद लेते हैं। ► बंदर हमेशा केला छीलकर खाते हैं। ► टिड्डे का खून सफेद रंग का होता है। ► व्हेल मछली उलटी दिशा में नहीं तैर सकती। ► अफ्रीकी हाथी के मुंह में केवल चार ही दांत होते हैं। ► हाथी अपनी सूंड में 5 लीटर तक पानी रख सकता है । ► ब्लू व्हेल की हृदय एक मिनट में मात्र 9 बार ही धड़कता है। ► कुत्ते की श्रवणशक्ति यानी सुनने की क्षमता मनुष्य से 9 गुना अधिक तेज होती है। ► समुद्र मे गहरा गोता लगाने के लिए मगरमच्छ कभी-कभी भारी पत्थर भी निगल लेता है। ► मधुमक्खी 20 लाख फूलों का रस पी सकती है। और उसके बाद मात्र 45 किलो ही शहद बनाती है। ► हिपोपोटोमास (दरियाई घोडे) उन बहुत कम जानवरों में से एक है, जो पानी में बच्चों को जन्म देते हैं। ► शेर को भले ही जंगल का राजा कहा जाता है, लेकिन वह गेंडे और हाथी से कभी भी लड़ना नहीं चाहता।
दुख सुख में बदल जायेगा!

दुख सुख में बदल जायेगा!

Stories
एक आश्रम में गुरू और शिष्‍य रहते थे। एक दिन शिष्‍य गुरू के पास आया और बोला कि एक व्‍यक्ति आश्रम में आया है आैर वह अपनी भैसों को कुछ समय के लिए हमारे आश्रम में भैसों को छोडना चाहता हैगुरूजी ने शिष्‍य की बात सुनकर बडे शांत मन से कहा कि चलो अच्‍छा है, दूध पीने को मिलेगा!कुछ समय बाद शिष्य ने आकर गुरू से कहा: गुरू जी ! जिस व्यक्ति ने अपनी भैसों को हमारे आश्रम में छोडी थी, आज वह अपनी भैसो को वापिस ले जाना चाहता है!शिष्‍य की बात सुनकर गुरू ने कहा:- चलो अच्छा हुआ! गोबर उठाने की झंझट से मुक्ति मिलेगी"इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि... 'परिस्थिति' बदले तो अपनी 'मनोस्थिति' बदल लो, दुख सुख में बदल जायेगा! "सुख दुख आख़िर दोनों मन के ही तो समीकरण हैं।"English Summary: moral is If "Situation" Changes then we should change our "Mentality", By This Sorrow will Change to
युवा पीढ़ी की कड़वी सच्चाई…!!

युवा पीढ़ी की कड़वी सच्चाई…!!

Quotes
माँ बाप को एक गिलास पानी भी नहीं दे सकते, और नेताओं को देखते ही वेटर बन जाते हो...!!बाप के मरने पर सिर मुंडवाने में हिचकते हो, और 'गजनी' लुक के लिए हर महीने गंजे हो सकते हो...!!गरीब को एक रुपया दान नहीं कर सकते, और वेटर को टीप देने में गर्व महसूस करते हो...!!गरीब की सब्जियाँ खरीदने में इंसल्ट होती है, और शाप्पिंग मॉल मेँ अपनी जेब कटवाना गर्व की बात है...!!नदी तालाब में नहाने में शर्म आती है, और स्विमिंग पूल में तैरने को फैशन कहते हो...!!बहन कुछ माँगे तो फिजूल खर्च लगता है, और गर्लफ्रेंड की डिमांड को अपना सौभाग्य समझते हो...!!बड़ों के आगे सिर ढकने में प्रॉब्लम है, लेकिन धूल से बचने के लिए 'ममी' बनने को भी तैयार हो...!!कोई पंडित अगर चोटी रखें तो उसे एंटीना कहते हो, और शाहरुख के 'डॉन' लुक के दीवाने बने फिरते हो...!!किसानों के द्वारा उगाया अनाज खाने लायक
सौंदर्य सिर्फ चेतना का होता है!!

सौंदर्य सिर्फ चेतना का होता है!!

Stories
बुद्ध ने 32 कुरूपताएं शरीर में गिनायी हैं, इन बत्तीस कुरूपताओं का स्मरण रखने का नाम कायगता-स्मृति है। पहली तो बात, यह शरीर मरेगा। इस शरीर में मौत लगेगी। मां के गर्भ में तुम कहां थे, तुम्हें पता है? मल-मूत्र से घिरे पड़े थे, उसी मल-मूत्र से तुम्हारा शरीर धीरे-धीरे निर्मित हुआ और उसी मल-मूत्र में नौ महीने बड़े हुए यह पैदा ही बड़ी गंदगी से हुआ है।फिर बुद्ध कहते हैं कि अपने शरीर में इन विषयों की स्मृति रखे— केश, दांत, नख, रोम, मांस, त्वक्, अस्थिमज्जा, स्नायु, अस्थि, यकृत, क्लोमक, फुस्फुस, प्लीहा, उदरस्थ मल—मूत्र, आत, पित्त, कफ, चर्बी, रक्त, पसीना, लार आदि इन सब चीजों से भरा हुआ है यह शरीर, इसमें सौंदर्य हो ही कैसे सकता है!सौंदर्य तो सिर्फ चेतना का होता है देह तो मल-मूत्र का घर है। देह तो धोखा है और इस धोखे में मत पड़ना, इस बात को याद रखना कि इसको तुम कितने ही इत्र छिडको तब भी इसकी दुर
घमौरियों होने के कारण, लक्षण तथा प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार!

घमौरियों होने के कारण, लक्षण तथा प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार!

Health Care
जानिए घमौरियाँ क्या है और क्यों होती है:- जब कभी भी पसीने की ग्रंथियों का मुंह बंद हो जाने की वजह से हमारे शरीर पर छोटे-छोटे लाल दाने निकल आते हैं, इन दानों में जलन व खुजली होती है। सामान्य भाषा में हम इसे घमौरियाँ (Prickly heat या Miliaria) कहते हैं तथा घमौरी एक प्रकार का चर्मरोग है, घमौरियाँ अक्सर हमारी पीठ, छाती, बगल व कमर के आसपास होती है। गर्म एवं आर्द्र मौसम होने की स्थति में घमैरी होती हैं। घमौरियाँ होने पर प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार:- वैसे यह रोग कुछ दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाता है लेकिन यदि रोगी इससे अधिक परेशान हो तो इस रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार किया जा सकता है। घमौरियों का उपचार करने के लिए रोगी व्यक्ति को रात के समय में अपने पेड़ू पर गीली मिट्टी की गर्म पट्टी बांधनी चाहिए। इस रोग से पीड़ित रोगी को उत्तेजक पदार्थ वाला भोजन नहीं करना चाहिए। घमौरियों से पीड़ित रोगी क
बाजरा हड्डियों के रोगों के लिए रामबाण!!

बाजरा हड्डियों के रोगों के लिए रामबाण!!

Health Care
बाजरे का किसी भी रूप में सेवन लाभकारी है बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगे...- बाजरे की रोटी खाने वालों को हड्डियों में कैल्शियम की कमी से पैदा होने वाले रोग आस्टियोपोरोसिस और खून की कमी यानी एनीमिया नहीं होता।- बाजरे में भरपूर कैल्शियम होता है जो कि हड्डियों के लिए रामबाण औषधि है, आयरन भी बाजरे में इतना अधिक होता है कि खून की कमी से होने वाले रोग नहीं हो सकते।- वरिष्ठ चिकित्साधिकारी मेजर डा. बी.पी. सिंह के सेना में सिक्किम में तैनाती के दौरान जब गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम और आयरन की जगह बाजरे की रोटी और खिचड़ी दी जाती थी। इससे उनके बच्चों को जन्म से लेकर पांच साल की उम्र तक कैल्शियम और आयरन की कमी से होने वाले रोग नहीं होते थे।- इतना ही नहीं बाजरे का सेवन करने वाली महिलाओं में प्रसव में असामान्य पीड़ा के मामले भी न के बराबर पाए गए।- गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम की ग
error: Content is protected !!