Literary / Sahityik

Sub Category:-

कबीर दास के दोहे अर्थ सहित हिंदी में 21 से 30 तक।

कबीर दास के दोहे अर्थ सहित हिंदी में 21 से 30 तक।

Dohe / Couplets
21) हाड़ जलै ज्यूं लाकड़ी, केस जलै ज्यूं घास। सब तन जलता देखि करि, भया कबीर उदास।। अर्थ: यह नश्वर मानव देह अंत समय में लकड़ी की तरह जलती है और केश घास की तरह जल उठते हैं। सम्पूर्ण शरीर को इस तरह जलता देख, इस अंत पर कबीर का मन उदासी से भर जाता है।22) जो उग्या सो अन्तबै, फूल्या सो कुमलाहीं। जो चिनिया सो ढही पड़े, जो आया सो जाहीं।। अर्थ : इस संसार का नियम यही है कि जो उदय हुआ है, वह अस्त होगा। जो विकसित हुआ है वह मुरझा जाएगा। जो चिना गया है वह गिर पड़ेगा और जो आया है वह जाएगा।23) झूठे सुख को सुख कहे, मानत है मन मोद। खलक चबैना काल का, कुछ मुंह में कुछ गोद।। अर्थ : कबीर कहते हैं कि अरे जीव ! तू झूठे सुख को सुख कहता है और मन में प्रसन्न होता है? देख यह सारा संसार मृत्यु के लिए उस भोजन के समान है, जो कुछ तो उसके मुंह में है और कुछ गोद में खाने के लिए रखा है।24) ऐसा कोई ना मिले,
कबीर दास के दोहे अर्थ सहित हिंदी में 11 से 20 तक।

कबीर दास के दोहे अर्थ सहित हिंदी में 11 से 20 तक।

Dohe / Couplets
11) अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप। अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।। अर्थ: न तो अधिक बोलना अच्छा है, न ही जरूरत से ज्यादा चुप रहना ही ठीक है। जैसे बहुत अधिक वर्षा भी अच्छी नहीं और बहुत अधिक धूप भी अच्छी नहीं है।12) निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय, बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय। अर्थ: जो हमारी निंदा करता है, उसे अपने अधिकाधिक पास ही रखना चाहिए। वह तो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियां बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ करता है।13) दुर्लभ मानुष जन्म है, देह न बारम्बार। तरुवर ज्यों पत्ता झड़े, बहुरि न लागे डार।। अर्थ: इस संसार में मनुष्य का जन्म मुश्किल से मिलता है। यह मानव शरीर उसी तरह बार-बार नहीं मिलता जैसे वृक्ष से पत्ता झड़ जाए तो दोबारा डाल पर नहीं लगता।14) कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर। ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर।। अर
कबीर दास के दोहे अर्थ सहित हिंदी में 1 से 10 तक।

कबीर दास के दोहे अर्थ सहित हिंदी में 1 से 10 तक।

Dohe / Couplets
1) बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय। जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।। अर्थ : जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला। जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है।2) पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय। ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।। अर्थ : बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा।3) साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय। सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।। अर्थ: इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है। जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है। जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे।4) त
जिंदगी पर कबीर के 10 दोहे अर्थ सहित!!

जिंदगी पर कबीर के 10 दोहे अर्थ सहित!!

Literary / Sahityik
1) सत्संगति है सूप ज्यों, त्यागै फटकि असार । कहैं कबीर गुरु नाम ले, परसै नहीँ विकार ।। अर्थात :- सत्संग सूप के ही तुल्ये है, वह फटक कर असार का त्याग कर देता है। तुम भी गुरु ज्ञान लो, बुराइयों छुओ तक नहीं।2) मैं मेरा घर जालिया, लिया पलीता हाथ । जो घर जारो आपना, चलो हमारे साथ ।। अर्थात :- संसार, शरीर में जो मैं, मेरापन की अहंता, ममता हो रही है, ज्ञान की आग बत्ती हाथ में लेकर इस घर को जला डालो। अपने अहंकार, घर को जला डालता है।3) भक्त मरे क्या रोइये, जो अपने घर जाय। रोइये साकट बपुरे, हाटों हाट बिकाय ।। अर्थात :- जिसने अपने कल्याणरुपी अविनाशी घर को प्राप्त कर लिया, ऐसे सन्त भक्त के शरीर छोड़ने पर क्यों रोते हैं? बेचारे अभक्त-अज्ञानियों के मरने पर रोओ, जो मरकर चौरासी के बाज़ार मैं बिकने जा रहे हैं।4) कबीर मिरतक देखकर, मति धरो विश्वास । कबहुँ जागै भूत है करे पिड
कबीर के 20 चुनिंदा दोहे अर्थ सहित (भाग-1)

कबीर के 20 चुनिंदा दोहे अर्थ सहित (भाग-1)

Literary / Sahityik
1) कबीर सो धन संचे, जो आगे को होय । सीस चढ़ाए पोटली, ले जात न देख्यो कोय ।। अर्थात:- कबीर कहते हैं कि उस धन को इकट्ठा करो जो भविष्य में काम आए। सर पर धन की गठरी बाँध कर ले जाते तो किसी को नहीं देखा।2) झूठे सुख को सुख कहे, मानत है मन मोद । खलक चबैना काल का, कुछ मुंह में कुछ गोद ।। अर्थात:- कबीर कहते हैं कि अरे जीव! तू झूठे सुख को सुख कहता है और मन में प्रसन्न होता है? देख यह सारा संसार मृत्यु के लिए उस भोजन के समान है, जो कुछ तो उसके मुंह में है और कुछ गोद में खाने के लिए रखा है।3) संत ना छाडै संतई, जो कोटिक मिले असंत । चन्दन भुवंगा बैठिया, तऊ सीतलता न तजंत ।। अर्थात:- सज्जन को चाहे करोड़ों दुष्ट पुरुष मिलें फिर भी वह अपने भले स्वभाव को नहीं छोड़ता। चन्दन के पेड़ से सांप लिपटे रहते हैं, पर वह अपनी शीतलता नहीं छोड़ता।4) माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर ।
कबीर के 20 चुनिंदा दोहे अर्थ सहित (भाग-1)

कबीर के 20 चुनिंदा दोहे अर्थ सहित (भाग-1)

Literary / Sahityik
1) जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान । मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान ।। अर्थात:- सज्जन की जाति न पूछ कर उसके ज्ञान को समझना चाहिए। तलवार का मूल्य होता है न कि उसकी मयान का (उसे ढकने वाले खोल का)।2) कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई । बगुला भेद न जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई ।। अर्थात:- कबीर कहते हैं कि समुद्र की लहर में मोती आकर बिखर गए। बगुला उनका भेद नहीं जानता, परन्तु हंस उन्हें चुन-चुन कर खा रहा है। इसका अर्थ यह है कि किसी भी वस्तु का महत्व जानकार ही जानता है।3) पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय । ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय ।। अर्थात:- बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप प
error: Content is protected !!