Tag: Baby Care Tips in Hindi

बच्‍चों को सुलाने के घरेलु उपाय!!

बच्‍चों को सुलाने के घरेलु उपाय!!

Kids / Children
अगर आपका बच्‍चा 6 महीने का हो चुका है और अच्‍छी तरह नहीं सो पाता, तो आप ये उपाय आजमा सकती हैं:-क्‍या आपका लख्‍तेजिगर रात भर चैन से सो नहीं पाता और इस वजह से आप परेशान हैं? छोटे बच्‍चे को रात को ठीक से नींद न आए तो मां भी स्‍ट्रेस की शिकार हो जाती है। बालरोग विशेषज्ञ बताते हैं कि रात को लंबी नींद लेने की आदत शिशुओं में 6 महीने बाद ही आती है। अगर आपका बच्‍चा 6 महीने का हो चुका है और फिर भी अच्‍छी तरह नहीं सो पता, तो आप ये उपाय आजमा सकती हैबैडटाइम फिक्‍स करें! बच्‍चे के सोने का एक समय निर्धारित कर दें। रोज थपकी देकर एक खास वक्‍त पर उसे बिस्‍तर पर लिटा दें। धीरे-धीरे उसी समय उसे नींद आने लगेगी। हमारी जैविक घड़ी बार-बार कुछ करने से उसकी अभ्‍यस्‍त हो जाती है। रात को वह उठ भी जाए तो उससे जोर से बात न करें और फुसफुसाकर बोलें, इससे उसे भी शांत रहने का संकेत मिलेगा। ये आदतें धीरे-धीरे बच्‍
जानें कारण जिनसे बच्चें खो रहे है अपना बचपन!!

जानें कारण जिनसे बच्चें खो रहे है अपना बचपन!!

Kids / Children
!! खोता बिखरता हुआ बचपन !! बचपन की परिभाषा एक नजर में वह पल जहा सिर्फ प्यार और प्यार भरा स्पर्श सब अपनों से मिलता है, पुरे परिवार वाले बचपन में बिना किसी स्वार्थ के सिर्फ प्यार करते हैं, बच्चे की मासूम हरकतें, उनका तुतला के बोलना, धीरे धीरे गिर के उठना, खिल के हँसना, इन सब में भगवान की एक जलक देखने को मिलती है, और पेरेंट्स उन पलों के लिए सब कुछ कुर्बान कर देते है। बचपन का दिया प्यार ही बुढ़ापे में केयरिंग बन कर वापस पेरेंट्स को मिलता है।पर आज कल बच्चों का बचपन पहले जैसा Loving और केयरिंग, भावनाओं से भरा हुआ नहीं रहा। आज कल कुछ बच्चे अपना बचपन मज़बूरी में खो देतें हें। तो कुछ बच्चे पेरेंट्स के दिखावे के बोझ के आगे दब कर अपनी मासूमियत खो देते है, कुछ बच्चे अपने माता-पिता के गलत निर्णय के आगे अपना बचपन अकेले में गुजर देते है...जानें कुछ ऐसे ही कारण जिनसे बच्चे खो रहे है अपना बचपन:-
जानें नवजात शिशु पर कितना असर डालता है डिजिटल मीडिया!

जानें नवजात शिशु पर कितना असर डालता है डिजिटल मीडिया!

Kids / Children
नवजात शिशु भी डिजिटल मीडिया से प्रभावित होता है। नवजात शिशु के सामने डिजिटल मीडिया का इस्‍तेमाल करते समय सावधान रहना जरूरी है। हाल में हुए नए शोध बताते है कि दो साल से छोटे बच्‍चे भी डिजिटल मीडिया को समझने लगते हैं। माता-पिता की देख-रेख में 18 महीने से ज्‍यादा बड़े बच्‍चे हर तरह के मीडिया को समझ सकते हैं। अब यह धारणा बदलती जा रही है कि दो साल से कम उम्र के बच्‍चों को हर तरह की स्‍क्रीन से दूर रखना चाहिए। द अमरीकन अकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्‍स का कहना है कि 18 से 24 माह की उम्र के बच्‍चों में डिजिटल मीडिया के प्रति समझ विकसित हो जाती है।हो सकता है खतरनाक! अगर बच्‍चे की देखभाल के लिए कोई व्‍यक्ति मौजूद है और स्‍क्रीन इस्‍तेमाल करने में सक्रिय रूप से शामिल है तो बच्‍चे भी डिजिटल मीडिया का इस्‍तेमाल करने में सक्षम हो जाते हैं। कुछ अध्‍ययन संकेत करते हैं कि इस उम्र में नवजात एजुकेशनल वीडियो
error: Content is protected !!