Tag: Gusse Par Kabu Kaise Paye

बाड़े की उस कील ने बताया गुस्‍से का प्रभाव!!

बाड़े की उस कील ने बताया गुस्‍से का प्रभाव!!

Stories
बहुत समय पहले की बात है, एक गाँव में एक लड़का रहता था। वह बहुत गुस्‍सैल था, छोटी-छोटी बात पर अपना आपा खो बैठता और लोगों को भला-बुरा कह देता। उसकी इस आदत से परेशान होकर एक दिन उसके पिता ने उसे कीलों से भरा हुआ एक थैला दिया और कहा कि अब जब भी तुम्‍हें गुस्‍सा आए तो तुम इस थैले में से एक कील निकालना और बाड़े में ठोक देना। लड़के ने इस बात के लिए हामी भर दी।पहले दिन उस लड़के को 40 बार गुस्‍सा आया और उसने इतनी ही कीलें बाड़े में ठोंक दी। धीरे-धीरे कीलों की संख्‍या घटने लगी, उसे लगने लगा की कीलें ठोंकने में इतनी मेहनत करने से अच्‍छा है कि क्रोध पर काबू किया जाए और अगले कुछ हफ्तों में उस लड़के ने पूरे दिन में एक बार भी आपा नहीं खोया। उस दिन उसे एक भी कील नहीं गाढ़नी पड़ी।जब उसने अपने पिता को ये बात बताई तो उन्‍होंने उसे एक काम दे दिया। उन्‍होंने कहा कि अब हर उस दिन जिस दिन तुम एक बार भी गु
बात पते की – गुस्से में अनजाने रिश्ते ना तोड़े!!

बात पते की – गुस्से में अनजाने रिश्ते ना तोड़े!!

Miscellaneous
अक्सर इंसान को जब गुस्सा आता हैं, वह अपने आगे पीछे की सब भूल जाता हैं। कोई भी दूसरा इन्सान अगर गुस्से वाले से बात करे तो जो मुँह में आये जवाब दे देता हैं। अगर सामने वाला उसका अपना हैं तो २-४ बार सुन भी लेगा और उसे माफ़ कर देगा, वही अगर गुस्से में इन्सान किसी पराये या अनजान आदमी को बोल दे तो वह सामने वाले की नजर में हमेशा के लिए गिर जाता हैं। लोग उसे गुसैल के नाम से बोलने लग जाते हैं। कभी-कभी इंसान को भावनात्मक गुस्सा रहता हैं, यह वह गुस्सा होता है- जो उसे अपनों से उम्मीद जितना प्रेम न मिलने के कारण, या अपनों कि उम्मीद पर खरा न उतरने के कारण, किसी पारिवारिक समस्या कि वजह से होता हैं, जिसका समाधान खोजना अक्सर कठिन और अपनों से उलझा हुआ होता है- ऐसे में इंसान गुस्सा तेज बोल कर नहीं दिखता, सिर्फ अन्दरूनी सोच मे रहता हैं, मन मे कश्मकश चलती रहती है। ऐसे मे इन्सान से कोई बात का DISCUSS किया जाये
error: Content is protected !!