Tag: Naturopathy Treatment in Hindi

सर्दी-जुकाम में लें प्राकृतिक चिकित्‍सा की मदद।

सर्दी-जुकाम में लें प्राकृतिक चिकित्‍सा की मदद।

Home Remedies
सर्दी-जुकाम खांसी श्‍वसन प्रणाली के अवयवों से संबंधित बीमारियां हैं। सर्दी नाक से शुरू होकर गला, श्‍वास नलिकाएं कान तक पहुंचती है और फेफडों में पहुंचकर अस्‍थमा में तब्‍दील हो जाती है। ऐसे में प्राकृतिक उपचार की मदद से राहत पाई जा सकती है।क्‍या है लक्षण:- नाक में खुश्‍की, छीकों का आना, गले में खराश, गले में खुजली, नाक-आंखों से पानी आना, नाक से श्‍लेष्‍मा निकलना जाे शुरू में सफेद व बाद में पीलापन लिए होता है। सुस्‍ती, आलस्‍य, थकान, सिरदर्द, बुखार, मुंह का बेस्‍वाद होना, अन्‍न के प्रति अरुचि होना, अंगों में दर्द आदि लक्षण सर्दी होने पर एकाधिक उपस्थित होते हैं।भाप स्‍नान:- एक लीटर पानी में 100-150 ग्राम पत्‍तागोभी के मोटे ऊपरी पत्‍तों को कसकर डालें। ढक्‍कन से ढककर अच्‍दी तरह उबालें, भाप निकलना शुरू होने पर ढक्‍कन हटाकर चेहरे व सिर को टावल से ढककर 5 से 10 मिनट तक भाप का सेवन करें। इ
error: Content is protected !!