Tag: Yoga in Hindi with Images

कमर दर्द में आराम देती पेल्विक एक्‍सरसाइज!!

कमर दर्द में आराम देती पेल्विक एक्‍सरसाइज!!

Fitness Tips
पेल्विक योगासनों को करने से शरीर में स्‍फूर्ति का संचार होता है। पेल्विक के आस-पास मांसपेशियों में रक्‍त संचार बढ़ता है। कमर दर्द में आराम मिलता है। कब्‍ज की दक्कित, कंधे व गर्दन के दर्द में भी आराम मिलता है। रीढ़ की हड्डी का लचीलापन बढ़ता है।प्रथम क्रिया जमीन परपर बैठ जाएं। दोनों पांव पूरा खोलें। इसके बाद दोनों हाथ पीछे की ओर जमीन पर रखें। नाक से श्‍वांस लेते हुए चेस्‍ट व पेट फुलाएं और सांस छोड़ते हुए पेट अंदर खीचें। पेल्विक को बाएं-दाएं जमीन पर रगड़ें। ऐसा 5-7 बार सांस लेते-छोड़ते हुए करें।द्वितीय क्रिया चित्रानुसार लेटकर एक पैर को ऊपर उठाकर हवा में गोल-गोल घुमाएं। इसके बाद दूसरे पैर को घुमाएं। ऐसा करते समय गहरी सांस लें और छोड़ें। यह क्रिया रोजाना पांच-सात बार कर सकते हैं।तृतीय क्रिया चित्रानुसार लेटकर सांस भरते हुए पैर को उठाते हुए विपरीत दिशा में सांस छोड़ते ह
कब्‍ज और मुहांसों में फायदेमंद हैं ये योगासन!!

कब्‍ज और मुहांसों में फायदेमंद हैं ये योगासन!!

Fitness Tips
युवावस्‍था में चेहरे पर मुहांसे होना त्‍वचा संबंधी आम समस्‍या है। कई बार मुहांसों वाली जहग पर काले निशान हो जाते हैं। इलाज के बाद भी ये ठीक नहीं होते हैं। असंतुलित आहार तैंलीय पदार्थ, जंकफूड और व्‍यायाम की कमी से समस्‍या बढ़ती है। पौष्टिक आहार के साथ इन योगाभ्‍यास को नियमित करने कब्‍ज में आराम मिल सकता है। विशेषज्ञों की सलाह से ही किसी योग का अभ्‍यास करें। उत्‍तानासन (Uttanasana Yoga)उत्‍तानासन करने के लिए सावधान की मुद्र में खड़े हो जाएं। गहरी सांस लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं। इसके बाद सांस छोड़ते हुए हाथों को जमीन की ओर लाएं। पैरों के अंगूठे को छूने का प्रयास करें। करीब 15-20 सेकंड तक इस अवस्‍था में रहें। इसके बाद सामान्‍य स्थिति में आ जाएं। इसके नियमित अभ्‍यास से शरीर में रक्‍त का संचार सुचारू होता है और त्‍वचा संबंधी दिक्‍कतें तनाव, थकान और मेनोपॉज से संबंधित समस्‍या
सांस रोग में फायदेमंद है पंचशक्ति मुद्रा!!

सांस रोग में फायदेमंद है पंचशक्ति मुद्रा!!

Health Care
योगासनों के अलावा योग मुद्राएं भी फायदा पहुंचाती है। ये कई तरह की होती है। शरीर पंच तत्‍व अग्नि, वायु, जल, पृथ्‍वी व आकाश से मिलकर बना है। ये पांचो तत्‍व हमारे हाथो की सारी अंगुलियों में जैसे अंगूठे में अग्नि, तर्जनी में वायु, मश्‍यमा में आकाश, अनामिका में पृथ्‍वी और कनिष्‍का में जल तत्‍व स‍माहित होता है। इसीलिए हाथों की उंगलियों से ही कई प्रकार की योग मुद्राएं की जाती है जिनसे कई लाभ होते हैं।जानते हैं इससे होने वाले लाभ के बारे में:-ऐसे करें:- पंच‍शक्ति मुद्रा करने के लिए दोनों हाथों को नमस्‍कार मुद्र में रखे। फिर चित्रानुसार मुद्र बनाएं। परंतु इस बात का ध्‍यान रखे कि एक उंगली दूसरी उंगली से दूर होनी चाहिए। इसे 1-2 मिनट तक ऐसे ही रखें।फायदे:- पंचशक्ति मुद्रा के कई फायदे हैं। इसे नियमित किया जाए तो फेफड़े संबंधी रोग, सांस रोग, नजला जुकाम, बलगम आना, सर्दी लगना, जोड़ों का
बढ़ती तोंद पर योग से लगाएं लगाम!

बढ़ती तोंद पर योग से लगाएं लगाम!

Fitness Tips
बढ़ता कमर का घेरा कई दिक्‍कतों का कारण बनता है। यह न सिर्फ रोगों को बढ़ता है बल्कि चलने-फिरने और जोड़ों को भी प्रभावित करता है। ऐसे में कुछ योगासनों से पेट की चर्बी कम कर सकते हैं। ये योगासन चर्बी घटाने के साथ कई तरह से लाभ देते हैं... मोटापे को रोकने के कई उपाय बताए गइ हैं उनमें से योग भी एक है। कुछ खास योग मदद कर सकते है।शलभासनऐसे करें:- पेट के बल लेटें और हथेलियां जांघों के नीचे रखें। ठोडी को जमीन से लगाएं और धीरे-धीरे पैरों को ऊपर उठाएं। घुटनों को मुड़ने दें। दोनों पैरों को जितना ऊपर ला सकते हैं, लाएं। कुछ सेकंड इस स्थिति में रुकें। धीरे-धीरे पूर्वावस्‍था में आएं। 30-30 सेकंड के 5 राउंड करें। आखेंबंद और एकाग्रता पीठ व पेट पर हो।ये न करें:- पीठ या कमर में अधिक दर्द हो, तो एक पैर से भी इसे किया जा सकता है। हर्निया व अपेंडिक्‍स के मरीज इसे न करें।फायदे:- यह जोड़ों के
error: Content is protected !!