Currently browsing:- Prakriti Par Kavita in Hindi


Renuka Kapoor Delhi

प्रकृति अब कहती है – Renuka Kapoor

यही प्रकृति अब कहती है अब बस, सांस मुझे भी लेने दो तुमको जीवन दिया है मैंने अब मुझको भी जीने दो अब सांस मुझे भी लेने दो। मेरी काया मेरी ही छाया। में…

Prakriti Humein Deti Hai Sab Kuch Hindi Kavita

प्रकृति हमें देती है सब कुछ… (कविता)

प्रकृति हमे देती है सब कुछ, हम भी तो कुछ देना सीखे… सूरज हमे रौशनी देता, हवा नया जीवन देती है… भूख मिटने को हम सबकी, धरती माँ अन्न देती है… पथिको को ताप्ती…