सब कुछ घूमना यानी बैलेंस डिसऑर्डर के लक्षण!

अक्‍सर ऑफिस या घर पर मीटिंग के दौरान या सीढि़यां उतरने चढ़ते समय अचानक अपको महसूस होता है कि आपके आस-पास सबकुछ घूमने लगा है या फिर अचानक चक्‍कर-सा आने लगता है। चिकित्‍सकीय भाषा में यह बैंलेंस डिसऑर्डर के लक्षण भी हो सकते हैं। इसे समझने के लिए पढ़ते है संबंधित जानकारी को :-

परेशानी के हैं लक्षण:-

बैलेंस डिसऑर्डर की स्‍थिति में मरीत को कई लक्षण महसूस हो सकते हैं। इनमें शामिल हैं:- आचानक गिर जाना या गिरने जैसा अहसास, चक्‍कर आना या सिर घूमने जैसा अहसास, वटिंगो की स्थिति में असमंजस होना या दिमाग में भटकाव के अलावा सिर में हल्‍कापन महसूस होना, उल्‍टी-दस्‍त होना, कुछ समय के लिए घुंघला दिखाई देना, ह्दय की धड़कनें तेज होना और ब्‍लड प्रेशर में उतार-चढ़ाव होने के अलावा डर, घबराहट व एंग्‍जाइटी महसूस होने जैसी परेशानियां महसूस होती हैं।

यह है समस्‍या:-

बैलेंस डिसऑर्डर चह स्थिति होती है जब मरीज बैठे खड़े या लेटे हुए अवस्‍था में भी अचानक चक्‍कर आने या संतुलन बिगड़ने जैसा अहसास करता है। इसके कई कारण हो सकते हैं जिनमें कुछ विशेष दवाओं को नियमित लेना भी हो सकता है। मेडिकली बैलेंस डिसऑर्डर की समस्‍या कान के उस अंदरूनी हिस्‍से से जुड़ी है जो शरीर का संतुलन बनाए रखने का काम करता है। कई परेशानियों जैसे कान में किसी प्रकार के वायरल इंफेक्‍शन, सिर पर लगने वाली चोट, दिमाग को तकलीफ पहुंचाने वाले ब्‍ल्‍ड सर्कुलेशन डिसऑर्डर या उम्र बढ़ने के कारण बैलेंस डिसऑर्डर की स्थिति बन जाती है।

सावधानी बरतनी जरूरी:-

वर्टिगो की समस्‍या के अलावा और भी कई तरह के बैलेंस डिसऑर्डर पाए जाते है। इनमें बिनाइन पैरोक्जिमल पोजीशनल वटिंगो, लिब्रिन्‍थाइटिस, मिनियर्स डिसीज, वेस्टिब्‍यूलर न्‍यूरोनाइटिस, पेरिलम्‍प फिस्‍ट्यमला और मोशन सिकनेस आदि शामिल है। ऐसे में लक्षणों को पहचानकर समय पर डॉक्‍टरी सलाह लेना जरूरी है। कार्यक्षमता को प्रभावित होने से बचाया जा सकता है।

जांच व इलाज:-

बैलेंस डिसऑर्डर के लक्षणों को समझ पाना मुश्किल हो जाता है। विशेषज्ञ को दिखाने पर वे भी कुछ विशेष जांचों को करवाने की सलाह देते है। समस्‍या के मूल कारण को जानने के लिए ऑटोलेरिंगोलॉजिस्‍ट या ईएनटी विशेषज्ञ यानी नाक, कान और गले के विशेषज्ञ को दिखाना भी सही तरीका हो सकता है। जांचो में कई बार इस परेशानी का कारण सामने नहीं आ पाता। ऐसे में दवाइयों के अलावा कुछ विशेष थैरेपी भी उपयोग में लाई जा सकती है।


English Summery: Know Signs and Symptoms of Balance Disorders in Hindi, Chakkar Aane Ke Reason Karan in Hindi, Balance Disorder Treatment, Signs and Symptoms of Balance Disorders in Hindi




Related...



Leave a Reply