स्‍वयं का शरीर से संवाद होने दो! उससे कहो कि विश्रांत हो जाएं, उसे कहो कि यहां डरने की कोई जरूरत नहीं है! तनाव खुद दूर होता जाएगा… सत्‍य की शक्ति! सत्‍य अपने आप में एक शक्ति है, साधना और तपस्‍या है। जिसके पास सत्‍य की शक्ति है उसके पास दुनिया की हर वस्‍तु स्‍वत:
Complete Reading

ईश्वर की रचना – कितनी अदभुद!, कितनी गहन!, कितनी सीधी(सरल) ईश्वर की रचना कितनी अद्भुद है, हम जितना चिंतन करते हैं प्रभु की इस दुनिया का, उतने ही नए-नए अहसास होते है। आज आपसे ऐसे ही कुछ अहसासों के बारे में जिक्र करना चाहती हूँ :- 1:- हमारी काया, यह मानव देह, इसके हर अंग
Complete Reading

स्वयं की आत्मरक्षा के लिए- सही समय पर सही बात बोलना! “आवाज” – बोलने की ताकत, परमात्मा ने दी हैं। ईश्वर ने यह मानव देह बनायीं हैं उसके हर एक अंग का अपना महत्व हैं। जब इन्सान दुनिया में आता है, हम सब जानते है, बच्चे को पैदा होते ही उसे रुलाया जाता हैं ताकि
Complete Reading

‘‘ हमारे पूर्वज सांपों के साथ खेलते थे, और आज हम माउस के साथ खेलते हैं!’’ ‘‘ मैं एक छोटा आदमी हॅूं, जो छोटे लोगों के लिये कुछ बड़ा करना चाहता हॅूं!’’ – नरेन्द्र मोदी ‘‘हम वादे नहीं, इरादे लेकर आये हैं!’’ – नरेन्द्र मोदी ‘‘एक गरीब परिवार का बेटा आज तुम्हारे सामने खड़ा है,
Complete Reading

जीवन में सफल कौन नहीं होना चाहता, हर एक व्‍यक्ति को अपने जीवन में सफलता चाहिए। तो जानें आप अपने जीवन में कैसे सफलता प्राप्‍त कर सकते है, इन 18 सूत्रों को अपना कर। ✍1. जीवन जब तुम पैदा हुए थे तो तुम रोए थे जबकि पूरी दुनिया ने जश्न मनाया था। अपना जीवन ऐसे
Complete Reading

दोस्‍तों अगर आपकों अपनी जिंदगी में सफल बनना है तो, आपको मेहनत, लग्‍न के साथ साथ आपनी आदतों को भी सुधारना पडेगा क्‍योकि हमारी आदतें ही हमारें जीवन को दिशा प्रदान करती है। आपको एक छोटी सी कहानी के जरिये हम यह बताने की कोशिश करते है कि कैसे आदतें हमारी सफलता में मददगार साबित
Complete Reading

बहुत बार हम कुछ ऐसा कर देते हैं या बोल देते हैं जिसके लिए हमें बाद में बहुत खेद और पश्चाताप होता है। खासकर तब जब आपने किसी अपने का दिल दुखाया हो। रहिमन धागा प्रेम का मत तोड़ो चटकाय, टूटे से फिर ना जुड़े, जुड़े गांठ पड़ जाय। आपको हम 5 बातें बताते है
Complete Reading

रतन टाटा टाटा समूह जो की भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक समूह है के अध्यक्ष हैं। इन का जन्म 28 दिसंबर 1937, को मुम्बई में हुआ था। टाटा समूह की स्थापना जमशेदजी टाटा ने की थी और उनके परिवार की पीढ़ियों ने इसका विस्तार किया। टाटा समूह की उन्नति में रतन टाटा का महत्वपूर्ण योगदान
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!