Miscellaneous

आत्मविश्लेषण (Introspection)

आज के समय हर व्यक्ति में अव्यवस्था, मानसिक तनाव और अंतर्मन की शांति का अभाव देखने को मिलता है। कोई भी व्यक्ति थोड़ी सी ज्यादा बात होने पर जुंझला जाता है, उनकी सहन शक्ति और समझने की शक्ति जैसे खत्म सी ल...

Read More
Miscellaneous

इतना व्यस्त न रहो की रिश्तों की मस्ती न रहे!!

आज के समय में एक प्रॉब्लम हर इन्सान के साथ रहती है, जब वह फ्री होते है और उसके साथ वाले व्यस्त होते है, तो पहेली शिकायत सामने वाले से होती है- "तुम्हारे पास मेरे लिए टाइम ही नहीं है" यह शिकायत एक पति-...

Read More
Miscellaneous

वचन का महत्व !

आज के समय में हम देखते है की रिश्तों में पहले जितनी मिठास और भावनाये नहीं रही। आखिर इसकी क्या वजह है... अगर थोड़ा सा सोचे तो पाएंगे की रिश्तों में वचन बध्यता का अभाव हो रहा है। आज की पीढ़ी अपने रिश्तों ...

Read More
Miscellaneous

श्रद्धा, विश्वास और सबूरी!

श्रद्धा, विश्वासः, सबूरी कितने सुन्दर तीन शब्दः में पूरी जिंदगी का राज बता दिया - साईबाबा ने...कलयुग में यह तीन शब्दः अगर जीवन में उतर ले तो सब कुछ काफी आसान लगने लगेगा। परिवार संगठित और समाज और र

Read More
Miscellaneous

वक्त के साथ रिश्ते कैसे बदल रहे हैं! आइए एक नजर डालें!

1. जहां पहले माँ पिता के चरणों में स्वर्ग होता था। आज वहां माता पिता घर में बोझ लगते है। बच्चों को उनका होना उनकी आजादी में रुकावट लगती है।२. जहां पहले बेटियां पिता के सामने नजरे झुका के बात करती ...

Read More
Miscellaneous

धैर्य… धैर्य… धैर्य… (जीवन मंत्र)

आज की भागती दौड़ती जिंदगी में अगर किसी से कहे की धैर्य रखना सीखो, लोग इसे बड़े हल्के ले लेते है, उन्हें लगता है जैसे दुनिया इतनी तेज और धीरज रखने की बात करते है। पर यह वाकई अद्भुत सत्य है हम थोड़ा सा धैर...

Read More
Kavitayen

दोस्ती कहने में एक शब्दः है! (कविता)

दोस्ती कहने में एक शब्दः है.. पर हर इंसान का सबसे करीबी रिश्ता है...दोस्ती सिर्फ शब्दः नहीं जिसका मै अर्थ बता सकू... दोस्ती कोई चीज़ नहीं जिसे मै दिखा सकू...दोस्ती है दिल का रिश्ता, जो हर रिश...

Read More
Kavitayen

प्रकृति हमें देती है सब कुछ… (कविता)

प्रकृति हमे देती है सब कुछ, हम भी तो कुछ देना सीखे...सूरज हमे रौशनी देता, हवा नया जीवन देती है... भूख मिटने को हम सबकी, धरती माँ अन्न देती है...पथिको को ताप्ती धुप में, पेड़ सदा देते ह छाया फ...

Read More