Tag: Food Tips in Hindi

खाना पचाने में मददगार आदतें!!

खाना पचाने में मददगार आदतें!!

Health Care
डिनर के 30 मिनट बाद टहलें व 45 मिनट बाद पानी पीएं पौष्टिक व लजीज भोजन करने का मतलब सिर्फ पेट भरने से नहीं होता है। अच्‍दी तरह से हजम हो, कोई तकलीफ न दे यह भी जरूरी है। भोजन से मिलने वाले पोषण पर ही हमारी सेहत की बुनियाद टिकी रहती हैस्‍वास्‍थ्‍य सिर्फ पोष्टिक भोजन पर ही निर्भर नहीं करता। यह इस पर भी निर्भर करता है कि शरीर भोजन को कितना अच्‍छे से पचाता है। पाचन वह प्रक्रिया है, जिससे शरीर ग्रहण किए गए भोजन और पेय पदार्थ को ऊर्जा में बदलता है। पाचन तंत्र के ठीक काम न करने पर भोजन बिना पचा रह जाता है, जो शरीर की प्रतिरोधाक क्षमता पर असर डालता है। इसके लिए जरूरी है रात दस बजे तक सोना, 6-8 घंटे की गहरी नींद, जंकफूड, तैलीय, उच्‍च कैलोरी वाले आहार लेने से बचें। ऐसे काम करता पाचन तंत्र भोजन जब अंदर जाता है तो वह गैस्ट्रिक जूस में मिक्‍स होता है। पेट की दीवारों पर मांसपेशियों की तीन परतें होत
विरुद्ध आहार भी करता है बीमार!!

विरुद्ध आहार भी करता है बीमार!!

Health Care
आयुर्वेद के अनुसार विपरीत गुण वाली चीजें एकसाथ खाने से बचें हैल्‍दी ईटिंग विरूद्ध आहार का मतलब खाने-पीने की वे चीजें जिन्‍हें एक साथ लेने से सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। घर के बुजु्र्ग भी इसीलिए कुछ चीजें एकसाथ खाने-पीने से रोकते-टोकते हैं।आहार हमारे जीवन का आधार है, लेकिन खानपान की लापरवाही के कारण अक्‍सर बीमार पड़ते हैं। स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छी जीवन शैली के साथ संतुलित भोजन बेहत जरूरी है जानते हैं आयुर्वेद विशेषज्ञ की राय :- विरूद्ध आहार का मतलब - 9 गुण होते हैं हमारे भोजन में। जब इसके नौ गुणों का अवरोध-विरोध पाया जाता है तो इसे विरुद्ध आहार कहते हैं। 13 प्रकार के विटामिन, खनिज तत्व, प्रोटीन और फाइटो विटामिंस की खाने में प्रतिदिन होती है शरीर को जरूरत।चक्‍कर स्‍वाद का हो या फिर जानकारी का अभाव। जाने-अनजानें में हम कई बार विरूद्ध आहार ले लेते हैं। यदि नियमित रूप से विरूद
काम की बात – बीमारियों से बचाते हैं ये सुपरफूड!!

काम की बात – बीमारियों से बचाते हैं ये सुपरफूड!!

Health Care
सुंदर दिखने के लिए नौजवान क्‍या नहीं करते, जिम जाने, डाइट का ध्‍यान रखते हैं। स्लिम रहने के लिए लड़कियां ही नहीं गृहणियां भी तरह-तरह के फूड आजमाती है। किनुआ दक्षिण अमरीका से किनुआ आयात होता है। अमरीका में इसे सभी अनाजों की मां कहा जाता है। यह धान से छोटे आकार का होता है। इसके छिलके के नीचे चावल जैसा अनाज होता है जिसे उबालकर खाते है। इसमें वसा और ग्‍लूटन नहीं होते। इसमें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, मैग्‍नीशियम, फास्‍फोरस, आयरन और जस्‍ता भी होता है। बेरीज स्‍ट्राबेरी, ब्‍लूबेरी, क्रैनबेरी स्‍वास्‍थयवर्धक होती हैं। यह मैगनीज, विटामिन सी व के और फाइबर से भरपूर हैं। डायबिटीज व वजन घटाने में फायदेमंद है। इनमें एंटीऑक्‍सीडेंट होते है, जिससे त्‍वचा निखरती है। यह कैंसर व हृदय रोगियों के लिए लाभ्‍दायक है। इसको खाने से वजन नियंत्रित रहता है। बीमारियों से भी बचाव होता है। नद्स बादाम, अखरोट, पिस्‍ता
केमिकल से पका फल खाने से बिगड़ सकता है हाजमा!!

केमिकल से पका फल खाने से बिगड़ सकता है हाजमा!!

Health Care
फल सेहत के लिए फायदेमंद है लेकिन केमिकल से पके फलों को खाने से सेहत बिगड़ सकती है। केमिकल से पके फल देखने में तो सामान्‍य दिखते है लेकिन इनके भीतर और ऊपरी सतह पर जमा केमिकल या कर्बाइड की परत शरीर की पाचन क्रिया बिगड़ती है। लंबे समय तक कोई व्‍यक्ति इस तरह के फलों को खाता है तो उसे पेट और एलर्जी संबंधी समस्‍या रह सकती है। बाजर में बिकने वाले सभी तरह के फलों को देख-परखकर ही खरीदें और अच्‍छे से साफ करने के बाद ही खाएं तो कई तरह की गंभीर समस्‍याओं से बचा जा सकता है। जानते हैं कि कुछ फलों के बारे में जिन्‍हें खाने से पहले सावधानी बरतनी जरूरी है। ऐसे नुकसान पहुंचाते है केमिकल से पके हुए फल केमिकल से पके फलों को बिना साफ किए खाने पर गले में खराश, पेट या आंतो में जलन के साथ बार-बार अचानक से उल्‍टी-दस्‍त की शिकायत होती है। कुछ लोगों में स्किन इंफेक्‍शन के साथ कमजोरी महसूस होने के साथ अलस की शिकाय
लंच या डिनर के बाद इन बातों का रखें ध्‍यान

लंच या डिनर के बाद इन बातों का रखें ध्‍यान

Health Care
लंच या डिनर करने के बाद अक्‍सर लोग चाय-कॉफी लेना, सोने चले जातना, धूम्रपान जैसी आदतों के आदी होते हैं। ये आदतें कई तरह से नुकसान पहुंचाती है। जानते हैं कुछ ऐसी आदतों के बारे में जो अक्‍सर लोग खाना खाने के बाद करते है:-चाय या कॉफी लेना:- खाने के तुरंत बाद चाय लेने से बचें। इनमें मौजूद पॉलिफिनॉल्‍स और टेनिंस नामक रसायन होते हैं जो खाने में लिए गए आहार के पोषक तत्‍वों को खत्‍म कर देते हैं। वही कॉफी में कैफीन होता है, जो आयरन को खत्‍म कर देता है। यह आदत एनीमिया के रोगियों के लिए काफी खतरनाक है। चाय या कॉफी पीनी हो तो खाने के एक घंटे बाद पीएं।धूम्रपान ना करें:- धूम्रपान करना हर तरह से नुकसानदायक है। इसके अलावा लंच या डिनर के बाद एक सिगरेट पीना दस सिगरेट के बराबर नुकसान पहुंचाती है। खाने के बाद आहार को पचाने के लिए शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है ऐसे में सिगरेट पीने से उसमें मौज
फर्श पर बैठकर खाने के है कई फायदे

फर्श पर बैठकर खाने के है कई फायदे

Miscellaneous
इससे आपका वजन नियंत्रण में रहता है, साथ ही बैठने और उठने से आपका व्‍यायाम भी हो जाता है। ऐसा नहीं है कि जमीन पर बैठकर खाने को बोल दिया गया तो किसी भी तरह से बैठकर खाना शुरू कर दें। सुखासन वाली मुद्रा में बिल्‍कुल सही तरीके से बैठने से ही ये सारे फायदे मिलते है। आज हम भले ही डाइनिंग टेबल पर या सामान्‍य कुर्सी और मेज पर बैठकर खाना खाने लगे हों लेकिन भारत में जमीन या फर्श पर बैठकर भोजन करने की परंपरा सदियों पुरानी है। विदेशों में भले ही लेकिन हमारे यहां यह परंपरा पुरानी है। मगर आधुनिक बनने की होड़ ने हमें भी डाइनिंग टेबल पर खाना खाने की आदत डाल दी है। जबकि विशेषज्ञों का मानना है कि जमीन पर बैठकर खाना खाने से सेहत को कई तरह के स्‍वासथ्‍य लाभ होते हैं। इससे ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार होता है, योग की मुद्रा में बैठने से पाचन क्रिया ठीक रहती है और बॉडी को एकदम सही पोश्‍चर मिल पाता है।आइए जानत
ये सुपर फूड शामिल करें फूड-लिस्‍ट में!!

ये सुपर फूड शामिल करें फूड-लिस्‍ट में!!

Health Care
फूड साइंटिस्‍ट ब्रेडले बोलिंग ने कुछ खास सुपरफूड्स को अपनी फूड लिस्‍ट में शामिल करने की राय दी है। ये कोई अलग या महंगी चीजें नहीं बल्कि बेहद आसानी से और वाजिब कीमत पर उपलब्‍ध आम हर्ब्‍स और वेजीटेबल्‍स हैं:-गाजर:- छीलकर, इस पर तेल लगा लें और फिर भून लें! क्‍यों:- ज्‍यादा छीलने पर पोलीएसीटिलीन तत्‍व नष्‍ट हो सकता है। गाजर फाइबर, विटामिंस व मिनरल्‍स का खजाना है।हल्‍दी:- रोजाना गर्म दूध या पानी में हल्‍दी मिलाकर पीएं! क्‍यों:- यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है और एंटीसेप्टिक गुणों वाली होती है। इसे गर्म दूध या पानी में मिलाने पर इसकी घुलनशीलता बढ़ जाती है और इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट तत्‍व करक्‍यूमिन आसानी से शरीर में जज्‍ब हो जाता है।अदरक:- सूखी अदरक को चाय, दूध या पानी में उबालकर पीएं! क्‍यों:- सूखी अदरक का सार किसी भी प्रकार की सूजन, इंफ्लेमेशन और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्
जूस कहीं आपको बीमार ना कर दे!!

जूस कहीं आपको बीमार ना कर दे!!

Health Care
गर्मी की दस्‍तक के साथ ही जूस पीने की तलब होने लगती है, ध्‍यान रहे फलों का जूस आपको बीमार न कर दे। जानते हैं कि जूस आपकी सेहत के लिए किस तरह से नुकसानदायक साबित हो सकता है:-जूस इंडस्‍ट्री पिछले कुछ सालों में काफी तेजी से बढ़ी है। स्‍वस्‍थ जीवन के लिए हर कोई जूस पीने की वकालत भी करता रहा है। हरे, लाल और जामुनी रंग के जूस का प्रचार इस तरह से किया जाता है कि इनका स्‍वाद अच्‍छा नहीं है, पर ये सेहत के लिए अच्‍छे हैं। लेकिन आपके लिए यह जानना जरूरी है कि जूस हमेशा आपकी सेहत या सेहत से जुड़े लक्ष्‍यों के लिए सही नहीं है।सुस्‍त पाचन प्रणाली! जब आप अच्‍छे फलों और सब्जियों को जूस में तब्‍दील कर देते हैं तो सुपर जूसर वही काम करता है, जो आपकी पाचन प्रणाली करती है। अगर यह एक आदत बन जाती है तो आपका पेट और पाचन प्रणाली पहले से कटे हुए भोजन या तरल रूप में पदार्थों को प्राप्‍त करने का आदी हो जाता
आज कुछ ज्‍यादा खा लिया है?

आज कुछ ज्‍यादा खा लिया है?

Fitness Tips
इसमें कोई दोराय नहीं है कि जरूरत से ज्‍यादा खा लेना सेहत पर भारी पड़ सकता है। हां, कभी-कभार ओवरईटिंग की जा सकती है लेकिन अगले दिन अगर आप महसूस करने लगें कि कुछ ज्‍यादा ही हो गया है तो इस स्थिति को संभालने के लिए आप ये कदम उठा सकती हैं।अपने शरीर की सुनें और घबराएं नहीं! यह जानना जरूरी है कि आपका शरीर खाने के प्रति कैसी प्रतिक्रिया देता है। ओवरर्इटिंग से वापस लौटने के लिए सबसे अच्‍दा उपाय है उसी तरह के खाने की आदतों को अपनाना, जो आपके लिए पहले भी कारगर रही हों। खाना छोड़ना या कैलोरीज कम करना सही नहीं है। वर्कआउट के साथ सेहतमंद खाने की आदत आपको दोबारा सही रास्‍ते पर ले आएगी। पंद्रह मिनट की वॉक भी आपको अद्भुत फादे दे सकती है।सतरंगा हो भोजन! डाइट में सेहतभरा और अलग-अलग रंगों का खाना, फल और सब्जियां शामिल करके आप अपने शरीर को ताकतवर बनाने के साथ ओवरईटिंग से जल्‍द उबरने के लिए सक्षम ब
फास्‍ट फूड पैकेजिंग देती हैं बीमारियां!

फास्‍ट फूड पैकेजिंग देती हैं बीमारियां!

Health Care
हाल ही अमरीका के साइलंट स्प्रिंग इंस्‍टीट्यूट की ओर से हुई रिसर्च में सामने आया है कि फास्‍ट फूड पैक करने के लिए इस्‍तेमाल किए जाने वाले पेपर, कंटेनर आदि आपको बीमार बना सकते हैं।बर्गर, पिज्‍जा या अन्‍य फास्‍ट फूड से होने वाले नुकसान के बारे में तो सभी जानते हैं, लेकिन घर बैठे जब आप इन्‍हें ऑर्डर करते हैं, तो यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य को दोगुना नुकसान पहुंचाते हैं। हाल ही अमरीका में हुई एक स्‍टडी में सामने आया है कि फास्‍ट फूड को पैक करने के लिए जिस कागज, प्‍लास्टिक या कंटेनर का इस्‍तेमाल किया जाता ह, उसमें फ्लोरीन की मात्रा होती है। खाने के जरिए फ्लोरीन हमारे शरीर में पहुंचता है। लंगे समय तक इसके इस्‍तेमाल से बीमारियां धीरे-धीरे अपना घर बनाने लगती है।कई प्रोडक्‍ट्स में इस्‍तेमाल ज्‍यादा मात्रा में फ्लोरिनेटेड कैमिकल्‍स जिन्‍हें पीएफएएस या पीएफसी के जौर पर जाना जाता है, स्‍वास्‍थ्‍य के
error: Content is protected !!