Currently browsing:- Prernadayak Kahaniya in Hindi


लघुकथाऐं विडंबना और सच्‍चा मित्र!

विडंबना संस्‍था के अधिकारी ने एक मीटिंग की। सभी सदस्‍य उपस्थित हुए। यह निर्णय लिया गया कि अपने परिसर को हरा भरा रखने का दायित्‍व हम सब का है। इसके लिए कुछ कार्य योजना…

Husband and Wife True Love Story in Hindi

Husband and Wife Motivational Short Story in Hindi With Images

एक लड़के की शादी एक खूबसूरत लड़की से हुई, वह उस से बहुत प्‍यार करता था, लड़की को कोई त्‍वचा संबंधी रोग हो गया और वह बदसूरत होने लगी, व्‍याक्ति को एक बार आफिस…

Helping Hands Story in Hindi Shobha Rani Goyal

मदद का जज्‍़बा इसे कहते है ”सीख सुहानी”-

उस दिन की यात्रा के उन दो मिनट की बातचीत ने मेरी जि़ंदगी को नया नज़रिया दे दिया। मदद के मायने मैंने जाने। मैं ऑफिस बस से ही आती जाती हूँ। ये मेरी दिनचर्या…

Teacher Student Relationship Short Moral Stories in Hindi

Teacher Student Relationship Short Moral Stories in Hindi

एक प्राथमिक स्कूल मे अंजलि नाम की एक शिक्षिका थीं वह कक्षा 5 की क्लास टीचर थी उसकी एक आदत थी कि वह कक्षा मे आते ही हमेशा “LOVE YOU ALL” बोला करतीं थी।…

Motivational Story in Hindi Baade Ki Keel Ne Bataya

बाड़े की उस कील ने बताया गुस्‍से का प्रभाव!!

बहुत समय पहले की बात है, एक गाँव में एक लड़का रहता था। वह बहुत गुस्‍सैल था, छोटी-छोटी बात पर अपना आपा खो बैठता और लोगों को भला-बुरा कह देता। उसकी इस आदत से…

दो प्रेरणादायक कहानियां “याद्दाश्‍त” और “तीसरा मित्र”

याद्दाश्‍त – कमलेश कुमार (Mother Love Short Story in Hindi) बढ़ती उम्र के साथ शांतादेवी की याद्दाशत साथ छोड़ रही थी। चीजें कहीं भी रखकर भूल जातीं, दोबारा दवा खा लेतीं। शाम को पार्क…

दो लघु कथाएँ – अन्‍नदाता का अधिकार & वे चार।

कथा 1 – अन्‍नदाता का अधिकार मिश्राजी अपने दोस्‍त के यहां आए थे। उनकी बेटी से बोले- ‘बेटा अब एमबीबीएस कंप्‍लीट होने के बाद आपको सरकारी अस्‍पताल में जॉइनिंग मिल गई है। पोस्टिंग कहां…

दो कहानी – 1. पालनहार की जीत, 2 कोई अंतर नहीं

कहानी 1. – पालनहार की जीत मां और उसकी दो लड़कियां। दोनों बहनें वयस्‍क। बड़ी बहन ने जब अपने मनपसंद लड़के से शादी की ली तो मां को नागवार लगा। वह लड़का उन्‍हें ठीक…

Tohfa Savita Mishra Short Story in Hindi

तोहफा – सविता मिश्रा

तोहफा -सविता मिश्रा डोरबेल बजी जा रही थी। रामसिंह भुनभुनाए ‘इस बुढ़ापे में यह डोरबेल भी बड़ी तकलीफ देती है। ‘दरवाजा खोलते ही डाकिया पोस्‍टकार्ड और एक लिफाफा पकड़ा गया। लिफाफे पर बड़े अक्षरों…