Stories

GyanJagat.com ने आपके लिए बहुत प्रेरणादायक, ज्ञानवर्धक, कहानियों का विशाल संग्रह किया है जिन्हे पढ़ कर आपको आप के जीवन में एक नई दिशा और गति प्रदान कर सकती है। आप खुद पढ़े और अपने दोस्तों रिश्तेदारों के साथ भी शेयर करें।

साधू की झोपड़ी!!

साधू की झोपड़ी!!

Stories
किसी गाँव में दो साधू रहते थे, वे दिन भर भीख मांगते और मंदिर में पूजा करते थे। एक दिन गाँव में आंधी आ गयी और बहुत जोरों की बारिश होने लगी, दोनों साधू गाँव की सीमा से लगी एक झोपडी में निवास करते थे, शाम को जब दोनों वापस पहुंचे तो देखा कि आंधी-तूफ़ान के कारण उनकी आधी झोपडी टूट गई है।यह देखकर पहला साधू क्रोधित हो उठता है और बुदबुदाने लगता है, "भगवान तू मेरे साथ हमेशा ही गलत करता है में दिन भर तेरा नाम लेता हूँ, मंदिर में तेरी पूजा करता हूँ फिर भी तूने मेरी झोपडी तोड़ दी, गाँव में चोर – लुटेरे झूठे लोगो के तो मकानों को कुछ नहीं हुआ, बिचारे हम साधुओं की झोपडी ही तूने तोड़ दी ये तेरा ही काम है! हम तेरा नाम जपते हैं पर तू हमसे प्रेम नहीं करता"तभी दूसरा साधू आता है और झोपडी को देखकर खुश हो जाता है नाचने लगता है और कहता है- भगवान् आज विश्वास हो गया तू हमसे कितना प्रेम करता है ये हमारी आधी
बेटी आखिर बेटी होती है!! जरूर पढ़े !

बेटी आखिर बेटी होती है!! जरूर पढ़े !

Stories
एक गरीब परिवार में एक सुंदर सी बेटी ने जन्म लिया, बाप दुखी हो गया बेटा पैदा होता तो कम से कम काम में तो हाथ बटाता, उसने बेटी को पाला जरूर, मगर दिल से नही वो पढने जाती थी तो ना ही स्कूल की फीस टाइम से जमा करता, और ना ही कापी किताबों पर ध्यान देता था, अक्सर दारू पी कर घर में कोहराम मचाता था।उस लड़की की माँ बहुत अच्छी व बहुत भोली भाली थी वो अपनी बेटी को बडे लाड प्यार से रखती थी, वो पति से छुपा-छुपा कर बेटी की फीस जमा करती और कापी किताबों का खर्चा देती थी। अपना पेट काटकर फटे पुराने कपडे पहन कर गुजारा कर लेती थी, मगर बेटी का पूरा खयाल रखती थी पति अक्सर घर से कई कई दिनों के लिये गायब हो जाता था। जितना कमाता था दारू मे ही फूक देता था !!वक्त का पहिया घूमता गया...बेटी धीरे-धीरे समझदार हो गयी, दसवीं क्लास में उसका एडमिशन होना था, मॉ के पास इतने पैसै ना थे जो बेटी का स्कूल में दाखिला करा
संसार मे अच्छाई और बुराई दोनों है!

संसार मे अच्छाई और बुराई दोनों है!

Stories
एक स्कूल में टीचर ने अपने छात्रो को एक कहानी सुनाई और बोली एक समय की बात है की एक छोटे समुद्री जहाज पर पति पत्‍नी का एक जोड़ा सफर कर रहा था, जहाज बीच समुद में जाकर दुर्घटना ग्रस्त हो गया और डूबने लगा, उन्होने देखा की जहाज पर एक लाइफबोट है पर उसमें सिर्फ एक ही व्यक्ति बैठ सकता था, जिसे देखते ही वो आदमी अपनी पत्नी को धक्का देते हुए खुद कूद कर उस लाइफबोट पर बैठ गया, उसकी पत्नी जोर से चिल्ला कर कुछ बोली...टीचर ने बच्चो से पूछा की तुम अनुमान लगाओ वो चिल्लाकर क्या बोली होगी?बहुत से बच्चो ने लगभग एक साथ बोला की वो बोली होगी तुम बेवफा हो, मे अंधी थी जो तुमसे प्यार किया, मे तुमसे नफरत करती हूँ।तभी टीचर ने देखा की एक बच्चा चुप बैठा है और कुछ नहीं बोल रहा, उसने उसे बुलाया और कहा बताओ उस महिला ने क्या कहा होगा। तो वो बच्चा बोला मुझे लगता है की उस महिला ने चिल्लाकर कहा होगा की "अपने बच्चे क
दुख सुख में बदल जायेगा!

दुख सुख में बदल जायेगा!

Stories
एक आश्रम में गुरू और शिष्‍य रहते थे। एक दिन शिष्‍य गुरू के पास आया और बोला कि एक व्‍यक्ति आश्रम में आया है आैर वह अपनी भैसों को कुछ समय के लिए हमारे आश्रम में भैसों को छोडना चाहता हैगुरूजी ने शिष्‍य की बात सुनकर बडे शांत मन से कहा कि चलो अच्‍छा है, दूध पीने को मिलेगा!कुछ समय बाद शिष्य ने आकर गुरू से कहा: गुरू जी ! जिस व्यक्ति ने अपनी भैसों को हमारे आश्रम में छोडी थी, आज वह अपनी भैसो को वापिस ले जाना चाहता है!शिष्‍य की बात सुनकर गुरू ने कहा:- चलो अच्छा हुआ! गोबर उठाने की झंझट से मुक्ति मिलेगी"इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि... 'परिस्थिति' बदले तो अपनी 'मनोस्थिति' बदल लो, दुख सुख में बदल जायेगा! "सुख दुख आख़िर दोनों मन के ही तो समीकरण हैं।"English Summary: moral is If "Situation" Changes then we should change our "Mentality", By This Sorrow will Change to
सौंदर्य सिर्फ चेतना का होता है!!

सौंदर्य सिर्फ चेतना का होता है!!

Stories
बुद्ध ने 32 कुरूपताएं शरीर में गिनायी हैं, इन बत्तीस कुरूपताओं का स्मरण रखने का नाम कायगता-स्मृति है। पहली तो बात, यह शरीर मरेगा। इस शरीर में मौत लगेगी। मां के गर्भ में तुम कहां थे, तुम्हें पता है? मल-मूत्र से घिरे पड़े थे, उसी मल-मूत्र से तुम्हारा शरीर धीरे-धीरे निर्मित हुआ और उसी मल-मूत्र में नौ महीने बड़े हुए यह पैदा ही बड़ी गंदगी से हुआ है।फिर बुद्ध कहते हैं कि अपने शरीर में इन विषयों की स्मृति रखे— केश, दांत, नख, रोम, मांस, त्वक्, अस्थिमज्जा, स्नायु, अस्थि, यकृत, क्लोमक, फुस्फुस, प्लीहा, उदरस्थ मल—मूत्र, आत, पित्त, कफ, चर्बी, रक्त, पसीना, लार आदि इन सब चीजों से भरा हुआ है यह शरीर, इसमें सौंदर्य हो ही कैसे सकता है!सौंदर्य तो सिर्फ चेतना का होता है देह तो मल-मूत्र का घर है। देह तो धोखा है और इस धोखे में मत पड़ना, इस बात को याद रखना कि इसको तुम कितने ही इत्र छिडको तब भी इसकी दुर
error: Content is protected !!