Tag: Diet Tips in Hindi

खाना पचाने में मददगार आदतें!!

खाना पचाने में मददगार आदतें!!

Health Care
डिनर के 30 मिनट बाद टहलें व 45 मिनट बाद पानी पीएं पौष्टिक व लजीज भोजन करने का मतलब सिर्फ पेट भरने से नहीं होता है। अच्‍दी तरह से हजम हो, कोई तकलीफ न दे यह भी जरूरी है। भोजन से मिलने वाले पोषण पर ही हमारी सेहत की बुनियाद टिकी रहती हैस्‍वास्‍थ्‍य सिर्फ पोष्टिक भोजन पर ही निर्भर नहीं करता। यह इस पर भी निर्भर करता है कि शरीर भोजन को कितना अच्‍छे से पचाता है। पाचन वह प्रक्रिया है, जिससे शरीर ग्रहण किए गए भोजन और पेय पदार्थ को ऊर्जा में बदलता है। पाचन तंत्र के ठीक काम न करने पर भोजन बिना पचा रह जाता है, जो शरीर की प्रतिरोधाक क्षमता पर असर डालता है। इसके लिए जरूरी है रात दस बजे तक सोना, 6-8 घंटे की गहरी नींद, जंकफूड, तैलीय, उच्‍च कैलोरी वाले आहार लेने से बचें। ऐसे काम करता पाचन तंत्र भोजन जब अंदर जाता है तो वह गैस्ट्रिक जूस में मिक्‍स होता है। पेट की दीवारों पर मांसपेशियों की तीन परतें होत
विरुद्ध आहार भी करता है बीमार!!

विरुद्ध आहार भी करता है बीमार!!

Health Care
आयुर्वेद के अनुसार विपरीत गुण वाली चीजें एकसाथ खाने से बचें हैल्‍दी ईटिंग विरूद्ध आहार का मतलब खाने-पीने की वे चीजें जिन्‍हें एक साथ लेने से सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। घर के बुजु्र्ग भी इसीलिए कुछ चीजें एकसाथ खाने-पीने से रोकते-टोकते हैं।आहार हमारे जीवन का आधार है, लेकिन खानपान की लापरवाही के कारण अक्‍सर बीमार पड़ते हैं। स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छी जीवन शैली के साथ संतुलित भोजन बेहत जरूरी है जानते हैं आयुर्वेद विशेषज्ञ की राय :- विरूद्ध आहार का मतलब - 9 गुण होते हैं हमारे भोजन में। जब इसके नौ गुणों का अवरोध-विरोध पाया जाता है तो इसे विरुद्ध आहार कहते हैं। 13 प्रकार के विटामिन, खनिज तत्व, प्रोटीन और फाइटो विटामिंस की खाने में प्रतिदिन होती है शरीर को जरूरत।चक्‍कर स्‍वाद का हो या फिर जानकारी का अभाव। जाने-अनजानें में हम कई बार विरूद्ध आहार ले लेते हैं। यदि नियमित रूप से विरूद
काम की बात – बीमारियों से बचाते हैं ये सुपरफूड!!

काम की बात – बीमारियों से बचाते हैं ये सुपरफूड!!

Health Care
सुंदर दिखने के लिए नौजवान क्‍या नहीं करते, जिम जाने, डाइट का ध्‍यान रखते हैं। स्लिम रहने के लिए लड़कियां ही नहीं गृहणियां भी तरह-तरह के फूड आजमाती है। किनुआ दक्षिण अमरीका से किनुआ आयात होता है। अमरीका में इसे सभी अनाजों की मां कहा जाता है। यह धान से छोटे आकार का होता है। इसके छिलके के नीचे चावल जैसा अनाज होता है जिसे उबालकर खाते है। इसमें वसा और ग्‍लूटन नहीं होते। इसमें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, मैग्‍नीशियम, फास्‍फोरस, आयरन और जस्‍ता भी होता है। बेरीज स्‍ट्राबेरी, ब्‍लूबेरी, क्रैनबेरी स्‍वास्‍थयवर्धक होती हैं। यह मैगनीज, विटामिन सी व के और फाइबर से भरपूर हैं। डायबिटीज व वजन घटाने में फायदेमंद है। इनमें एंटीऑक्‍सीडेंट होते है, जिससे त्‍वचा निखरती है। यह कैंसर व हृदय रोगियों के लिए लाभ्‍दायक है। इसको खाने से वजन नियंत्रित रहता है। बीमारियों से भी बचाव होता है। नद्स बादाम, अखरोट, पिस्‍ता
फल-सब्जियों को अनदेखा तो नहीं कर रहें आप!

फल-सब्जियों को अनदेखा तो नहीं कर रहें आप!

Health Care
यदि आपको पिछले कुछ समय से ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या परेशान करने लगी है तो अपनी डाइट पर ध्‍यान दें ! शरीर कुछ ऐसे संकेत देना शुरू कर देता है, जो आपको बार-बार यह अहसास करवाता है कि आप हेल्‍दी डाइट नहीं ले रहे हैं, जैसे आप आलसी होने लगेंगे या फिर कुछ भूलने लगेंगे। अचानक से आपको वजन बढ़ा हुआ महसूस होगा तो कभी बीपी की समस्‍या परेशान करेगी। डायबिटीज का रोग भी उभर सकता है। यह सब बीमारियां इस बात की ओर इशारा करती है कि आपके शरीर में अब पोषक तत्‍वों की कमी हो चुकी है। दरअसल, शारीरिक क्रियाओं को सुचारू रूप से चलाने के लिए शरीर को विटामिन्‍स और मिनरल्‍स की अवश्‍यकता होती है। इसके लिए सबसे अच्‍छा तरीका है कि आप रोजाना फल औश्र सब्जियों का भरपूर मात्रा में सेवन करें।जानते हैं, इनकी कमी से होने वाले दुष्‍प्रभावों के बारे में :-पेट की समस्‍या (Stomach problems) :- यदि आपको पेट संबंधी समस्‍या रहती ह
लंच या डिनर के बाद इन बातों का रखें ध्‍यान

लंच या डिनर के बाद इन बातों का रखें ध्‍यान

Health Care
लंच या डिनर करने के बाद अक्‍सर लोग चाय-कॉफी लेना, सोने चले जातना, धूम्रपान जैसी आदतों के आदी होते हैं। ये आदतें कई तरह से नुकसान पहुंचाती है। जानते हैं कुछ ऐसी आदतों के बारे में जो अक्‍सर लोग खाना खाने के बाद करते है:-चाय या कॉफी लेना:- खाने के तुरंत बाद चाय लेने से बचें। इनमें मौजूद पॉलिफिनॉल्‍स और टेनिंस नामक रसायन होते हैं जो खाने में लिए गए आहार के पोषक तत्‍वों को खत्‍म कर देते हैं। वही कॉफी में कैफीन होता है, जो आयरन को खत्‍म कर देता है। यह आदत एनीमिया के रोगियों के लिए काफी खतरनाक है। चाय या कॉफी पीनी हो तो खाने के एक घंटे बाद पीएं।धूम्रपान ना करें:- धूम्रपान करना हर तरह से नुकसानदायक है। इसके अलावा लंच या डिनर के बाद एक सिगरेट पीना दस सिगरेट के बराबर नुकसान पहुंचाती है। खाने के बाद आहार को पचाने के लिए शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है ऐसे में सिगरेट पीने से उसमें मौज
शरीर में होने लगे जब कैल्शियम की कमी!!

शरीर में होने लगे जब कैल्शियम की कमी!!

Health Care
शरीर में कैल्शियम की कमी होने का सबसे ज्‍यादा असर हड्डियों व मांसपेशियों पर पड़ता है। यही नहीं पर्याप्‍त कैल्शियम नहीं मिलने से दिल की कमजोरी, हार्मोन्‍स का गड़बड़ होना, रक्‍त के थक्‍के नहीं जमना व महिलाओं में मासिक धर्म संबंधी परेशानियां होने लगती है। इसी कमी को कुछ इस तरह पूरा किया जा सकता है। इनका करें सेवन:- कैल्शियम के प्रमुख स्‍त्रोत में दूध, पनीर, दही और अंडे शामिल है। फल और सब्जियों में पर्याप्‍त मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। कैल्शियम से भरपूर फलों में अमरूद, सीताफल, अनार, नाशपाती, अंगूर, केला, खरबूजा, जामुन, आम, संतरा, अनानास, पपीता, लीची, सेब और शहतूत (White mulberry) शामिल हैं। साब्जियों में चुकंदर, नींबू, पालक, बधुआ, बैगन, गाजर, भिंडी, टमाटर, पुदीना, हरा धनिया, करेला, ककड़ी और पत्‍तागोभी में कैल्शियम भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। साथ ही बादाम, पिस्‍ता, मुनक्‍का, खजूर आद
अगर नियमित डाइट को मिस किया तो !!

अगर नियमित डाइट को मिस किया तो !!

Fitness Tips
सेहत के मामले में डायटिंग और क्रैश डाइटिंग जैसे फॉर्मूले कई बार भारी पड़ जाते हैं। जानें इनकी भ्रांतियों के बारे में:- अगर आपको भी लगता है कि डाइट में कमी करने या खूब सारी एक्‍सरसाइज कर आप जल्‍दी अपना वजन कम कर लेंगे, तो संभल जाइए। ज्‍यादातर लोग इन भ्रांतियों को बिना परखे अपनाने लगते हैं और बदले में कई तरह की तकलीफों को निमंत्रण दे बैठते हैं। स्लिम होने यानी वजन कम करने की चाह में ज्‍यादातर लोग बिना किसी एक्‍सपर्ट की सलाह के खाने की कई चीजें से दूरी बना लेते हैं। यहां तक कि ब्रेकफास्‍ट, लंच या डिनर तक मिस करने लगते हैं। साथ ही एक्‍सरसाइज पर जरूरत से ज्‍यादा जोर देने लगते हैं। लेकिन हकीकत में वजन कम करने का यह तरीका सही नहीं है। इससे न सिर्फ शरीर कमजोर होता है, बल्कि इम्‍यूनिटी भी कम होने लगती है। यहां हम कुछ ऐसी ही भ्रांतियों पर चर्चा कर रहे है जिसके चक्‍कर में लोग अपनी सेहत खराब कर रहे
बच्‍चों की डाइट सुधारकर मजबूत करें सेहत का सुरक्षाचक्र!!

बच्‍चों की डाइट सुधारकर मजबूत करें सेहत का सुरक्षाचक्र!!

Kids / Children
अक्‍सर रोगों का एक कारण सामने आता है कि रोगी के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना। इसका कारण शरीर में पोष्‍क तत्‍वों की कमी और डाइट में एंटीऑक्‍सीडेंट से युक्‍त चीजें शामिल न करना है। कई बार मौसम में बदलाव होने पर स्थिति और भी बिगड़ जाती है। खासकर इसके मामले बच्‍चों में अधिक देखे जाते हैं। जानते हैं खानपान से जुड़ी कौन सी बाते जो इम्‍युनिटी बढ़ाती हैं और पोषक तत्‍वों की पूर्ति भी करती है।दही ➤ एक शोधानुसार ऐसे बच्‍चे जो दही खाते हैं, उनहें कान-गले का संक्रमण और सर्दी-जुकाम के होने की आशंका 19 फीसदी तक कम हो जाती है। इसमें शरीर को फायदा पहुंचाने वाले बैक्‍टीरिया होते है, जो बच्‍चों के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने में मदद करते हैं। इन गुड बैक्‍टीरिया को प्रोबायोटिक्‍स भी कहते हैं। रोजाना दही लेने से सूजन, संक्रमण और एलर्जी संबंधी समस्‍याएं भी दूर होती है।
ये सुपर फूड शामिल करें फूड-लिस्‍ट में!!

ये सुपर फूड शामिल करें फूड-लिस्‍ट में!!

Health Care
फूड साइंटिस्‍ट ब्रेडले बोलिंग ने कुछ खास सुपरफूड्स को अपनी फूड लिस्‍ट में शामिल करने की राय दी है। ये कोई अलग या महंगी चीजें नहीं बल्कि बेहद आसानी से और वाजिब कीमत पर उपलब्‍ध आम हर्ब्‍स और वेजीटेबल्‍स हैं:-गाजर:- छीलकर, इस पर तेल लगा लें और फिर भून लें! क्‍यों:- ज्‍यादा छीलने पर पोलीएसीटिलीन तत्‍व नष्‍ट हो सकता है। गाजर फाइबर, विटामिंस व मिनरल्‍स का खजाना है।हल्‍दी:- रोजाना गर्म दूध या पानी में हल्‍दी मिलाकर पीएं! क्‍यों:- यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है और एंटीसेप्टिक गुणों वाली होती है। इसे गर्म दूध या पानी में मिलाने पर इसकी घुलनशीलता बढ़ जाती है और इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट तत्‍व करक्‍यूमिन आसानी से शरीर में जज्‍ब हो जाता है।अदरक:- सूखी अदरक को चाय, दूध या पानी में उबालकर पीएं! क्‍यों:- सूखी अदरक का सार किसी भी प्रकार की सूजन, इंफ्लेमेशन और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्
जाने कौन से फल व सब्जी किस रोग को दूर रखते है !!

जाने कौन से फल व सब्जी किस रोग को दूर रखते है !!

Health Care
आमतौर पर हमें यह पता नहीं होता की किस फल या सब्‍जी में क्‍या क्‍या गुण होते है अगर हम अपने रोज के आहार में विभिन्‍न प्रकार के फलों या सब्जियों को शामिल करते है तो हम अपने शरीर को स्‍वास्‍थ रख सकते है।जाने किस फाल व सब्‍जी में किस रोग को दूर करने की क्षमता होती है:-पानी:- गुर्दे की पथरी नाशक है, वजन घटाने में सहायक है, केसर के विरुद्ध लडता है, त्वचा के चमक बढाता है।आम:- केंसर से बचाव करता है,थायराईड रोग में हितकारी है, पाचन शक्ति बढाता है, याददाश्त की कमजोरी में हितकर है।सेवफ़ल:- हृदय की सुरक्षा करता है, दस्त रोकता है, कब्ज में फ़ायदेमंद है, फ़ेफ़डे की शक्ति बढ़ाता है।केला:- ब्लडप्रेशर नियंत्रित करता है, हड्डियों को मजबूत बनाता है,हृदय की सुरक्षा करता है,अतिसार में लाभदायक है, खांसी में हितकारी है।संतरा:- हृदय की सुरक्षा करता है, रोग प्रतिकारक शक्ति उन्नत
error: Content is protected !!