Miscellaneous

मनुष्य – जीवन के कुछ दोष!!

मनुष्य - जीवन के कुछ दोष मनुष्य जीवन में कुसंगति, कुकर्म, बुरे वातावरण, खान-पान आदि अनेक कारणों से कई तरह के दोष आ जाते हैं, जो देखने में छोटे लगते हैं पर वे ऐसे होते हैं, जो जीवन को अशांत, दुखी बनान

Read More
Miscellaneous

लड़कियों को हर पल चौकन्ना रहना होगा..!!

लडकियों के लिये पोस्ट है सभी पढ़े.. तुम और वो लड़की रात के तीसरे पहर चैट कर रहे हो। बात करते करते तुम्हे कामुकता का अहसास होता है। तुम बिना सोचे बिना एक पल गवाए उससे फोटो की मांग कर देते हो। वो कहत...

Read More
Miscellaneous

Maturity का सम्बन्ध आदमी की उम्र से नहीं, बल्कि…

Maturity का सम्बन्ध आदमी की उम्र से नहीं, बल्कि उसकी सोच से होता हैं।Maturity का meaning - परिपक्वता। --- Maturity Meaning in Hindi अर्थार्त ऐसा गुण जो अपने अन्दर अपने आस पास की अच्छाई और बुराई द

Read More
Miscellaneous

वसुधैव कुटुम्बकम – रश्मि किरण

वसुधैव कुटुंबकम का अर्थ है जहां एक और पूरी वसुधा अर्थात हमारी पृथ्वी को एक परिवार के रूप में बांध देता है वही यह भावनात्मक रूप से मनुष्य को अपने विचारों और कार्यों के प्रभाव को विस्तृत करने की बात कहत...

Read More
Miscellaneous

जूतों की दुर्गंध Lifestyle Tips in Hindi

• जूतों की दुर्गंध जूतों से आ रही बदबू को दूर करने के लिए आप वाइट विनेगर का प्रयोग कर सकती हैं। इसके लिए जूतों पर 50 प्रतिशत पानी और 50 प्रतिशत सफेद विनेगर का मिश्रण छिड़कें। इस मिश्रण का अपने जूतों

Read More
Miscellaneous

फर्श पर बैठकर खाने के है कई फायदे

इससे आपका वजन नियंत्रण में रहता है, साथ ही बैठने और उठने से आपका व्‍यायाम भी हो जाता है। ऐसा नहीं है कि जमीन पर बैठकर खाने को बोल दिया गया तो किसी भी तरह से बैठकर खाना शुरू कर दें। सुखासन वाली मुद्रा

Read More
Miscellaneous

इन चीजों से घर चमकाएं!!

केले के छिलके, ग्रीन टी के पाउच और नीबू का रस भी हो सकते हैं घर की चमक बढ़ाने में मददगार। अपने घर की सफाई करने के लिए आप महंगे से महंगे क्‍लीनर या लिक्विड लेकर आती हैं। लेकिन फिर भी आपको चीजें उतनी स

Read More
Miscellaneous

ज्ञानवाणी – शरीर से संवाद!!

स्‍वयं का शरीर से संवाद होने दो! उससे कहो कि विश्रांत हो जाएं, उसे कहो कि यहां डरने की कोई जरूरत नहीं है! तनाव खुद दूर होता जाएगा...सत्‍य की शक्ति! सत्‍य अपने आप में एक शक्ति है, साधना और तपस

Read More
Miscellaneous

ईश्वर की रचना – कितनी अदभुद! कितनी गहन! कितनी सरल!

ईश्वर की रचना - कितनी अदभुद!, कितनी गहन!, कितनी सीधी(सरल) ईश्वर की रचना कितनी अद्भुद है, हम जितना चिंतन करते हैं प्रभु की इस दुनिया का, उतने ही नए-नए अहसास होते है। आज आपसे ऐसे ही कुछ अहसासों के बारे

Read More
Miscellaneous

बात पते की – गुस्से में अनजाने रिश्ते ना तोड़े!!

अक्सर इंसान को जब गुस्सा आता हैं, वह अपने आगे पीछे की सब भूल जाता हैं। कोई भी दूसरा इन्सान अगर गुस्से वाले से बात करे तो जो मुँह में आये जवाब दे देता हैं। अगर सामने वाला उसका अपना हैं तो २-४ बार सुन भ

Read More