Shadow

Health Care

स्वास्थ्य सम्बन्धी सुझाव हिन्दी में, Health Care Tips in Hindi, Share With Friends and Family

2 हफ्तों में पेट का वजन काम करे आसान उपाओं से !

2 हफ्तों में पेट का वजन काम करे आसान उपाओं से !

Health Care
पेटी की चर्बी से हर दूसरा व्यक्ति परेशान नजर आता है। यह समस्या काफी आम हो चुकी है। इसके लिए अपनी एक नियमित दिनचर्या बनाएं और गंभीरता से इसका अनुसरण करें। आइए जानें कुछ ऐसे उपाय जिन्हें अपनाकर महज दो सप्ताह में ही बढ़े हुए पेट को कम किया जा सकता है। पानी में सौंफ आधा चम्मच सौंफ लेकर एक कप खौलते पानी में डाल दी जाए और 10 मिनट तक इसे ढककर रखा जाए और बाद में ठंडा होने पर पी लिया जाए। नियमित रुप से इसे लेने पर पेट जल्द कम होगा। बॉल एक्सरसाइज बॉल एक्सररसाइज करें जमीन पर पीठ के बल पर सीधा लेट जाए। अब हाथों पर एक्सरसाइज वाली बडी़ बॉल को हाथों में ले कर अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाएं। अब अपने हाथों की बॉल को अपने पैरों में पकड़ाएं और फिर पैरों को नीचे ले जा कर दुबारा बॉल ले कर ऊपर आएं। फिर पैरों से जो बॉल उठाई गई है उसे दुबारा हाथों में पकाड़ाएं। इस क्रिया को लगातार 12 बार करें। जौ-चने की रोटी
चरक के अनुसार शराब के फायदे!

चरक के अनुसार शराब के फायदे!

Health Care
चरक संहिता में चरक ने न केवल पशुओं के मांस के गुणों की चर्चा की है, उन्होंने शराब की विभिन्न किस्मों पर आयुर्वेद के दृष्टिकोण से चर्चा की है। सुधीजनों के लिये आयुर्वेद के परमपुरूष की राय प्रस्तुत है-चरक के अनुसार सभी तरह की शराब अम्लीय तथा गर्म होती हैं जो पेट में भी अम्ल रस उत्पन्न करती हैं।1. मदिरा (आसुत सुरा):- हिचकी, जुकाम, खांसी, कब्ज तथा अरुचि में हितकर तथा वातनाशक है।2. सुरा:- यह दुबले पतले लोगों को, संग्रहणी तथा बवासीर के रोगियों के लिये लाभदायक है। मूत्र की रुकावट को खोलती है।3. अरिष्ट(सड़ाकर बनाया हुआ मद्य):- सूजन, बवासीर, संग्रहणी, पीलिया, अरुचि, बुखार आदि रोगों को नष्ट करते हैं।4. जगल (चावल से तैयार मद्य):- शूल, मरोड़, अफरा और बवासीर में हितकर है। सूजन मिटाने वाली तथा भोजन पचाने में सहायक है। रूखी व गर्म होती है।5. शर्करा(खांड से तैयार शराब):- मुख को प
बहुत फायदेमंद है फलों के छिलके – उपयोग व फायदे!

बहुत फायदेमंद है फलों के छिलके – उपयोग व फायदे!

Health Care
बहुत कम लोग जानते हैं कि सिर्फ फलों और सब्जियों में ही नहीं, बल्कि उनके छिलके भी गुणों से युक्त होते हैं। शरीर के लिए आवश्यक लगभग हर तरह के पोषक तत्व हमें इनसे मिलते हैं। इसलिए डॉक्टर सेहत बनाने के लिए अधिक मात्रा में इनका सेवन करने को कहते हैं, लेकिन इन छिलकों का उपयोग करने से कई रोग भी दूर होते हैं। यदि आप भी फलों और सब्जियों के इन गुणों से अनजान हैं! तो आइए जानते हैं आज छिलकों के कुछ ऐसे गुणों के बारे में...• नींबू का छिलका दांत पर मलने से दांत चमकदार बनते हैं। • नींबू व संतरे के छिलकों को सुखा कर, खूब महीन चूर्ण बनाकर दांत पर घिसें। दांत चमकदार बन जाएंगे। • लौकी के छिलके को बारीक पीसकर पानी के साथ पीने से दस्त में लाभ होता है। • केले का छिलका दांतों पर रगड़ने से दांत चमकने लगते हैं। • बादाम के छिलके व बबूल की फलियों के छिलके और बीजों को जलाकर पीस लें। इस मिश्रण में थोड़ा नमक डा
पुरुषों को ये चीजें नहीं खाना चाहिए – सेक्सुअल हेल्थ!

पुरुषों को ये चीजें नहीं खाना चाहिए – सेक्सुअल हेल्थ!

Health Care
दरअसल स्त्री हो या पुरुष खानपान और जीवन शैली का हमारे शरीर पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है। जब भी कोई कमजोरी का जिक्र करता है, तब आपने अक्सर बड़े-बुजुर्गों को कहते सुना होगा कि खानपान ठीक करो, कमजोरी अपने आप दूर हो जाएगी स्वस्थ शरीर के लिए सही खानपान बेहद जरूरी है, लेकिन कुछ ऐसे भोज्य पदार्थ भी होते हैं जिनका मूड पर विपरीत असर पड़ता है। इसीलिए ऐसे भोज्य पदार्थों के बारे में जानना महत्वपूर्ण हो जाता है, जो आपकी कामोत्तेजना को प्राकृतिक रूप से नष्ट करते हैं। ये पदार्थ पुरुषों को कमजोर बना सकते हैं। इसलिए खाने की ऐसी चीजों को पहचान कर अपनी खाने की लिस्ट से बाहर कर दें, जो आपकी ताकत को कम कर सकती है।आइए जानते हैं ऐसी ही चीजों के बारे में..... ⇛ शराब शराब से ऐसी रासायनिक क्रिया आरम्भ हो जाती है जो टेस्टोस्ट्रोन के उत्पादन को कम करती है। शराब पीने के बाद आप अच्छा महसूस कर सकते हैं, लेकिन इससे
घमौरियों होने के कारण, लक्षण तथा प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार!

घमौरियों होने के कारण, लक्षण तथा प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार!

Health Care
जानिए घमौरियाँ क्या है और क्यों होती है:- जब कभी भी पसीने की ग्रंथियों का मुंह बंद हो जाने की वजह से हमारे शरीर पर छोटे-छोटे लाल दाने निकल आते हैं, इन दानों में जलन व खुजली होती है। सामान्य भाषा में हम इसे घमौरियाँ (Prickly heat या Miliaria) कहते हैं तथा घमौरी एक प्रकार का चर्मरोग है, घमौरियाँ अक्सर हमारी पीठ, छाती, बगल व कमर के आसपास होती है। गर्म एवं आर्द्र मौसम होने की स्थति में घमैरी होती हैं। घमौरियाँ होने पर प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार:- वैसे यह रोग कुछ दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाता है लेकिन यदि रोगी इससे अधिक परेशान हो तो इस रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार किया जा सकता है। घमौरियों का उपचार करने के लिए रोगी व्यक्ति को रात के समय में अपने पेड़ू पर गीली मिट्टी की गर्म पट्टी बांधनी चाहिए। इस रोग से पीड़ित रोगी को उत्तेजक पदार्थ वाला भोजन नहीं करना चाहिए। घमौरियों से पीड़ित रोगी क
बाजरा हड्डियों के रोगों के लिए रामबाण!!

बाजरा हड्डियों के रोगों के लिए रामबाण!!

Health Care
बाजरे का किसी भी रूप में सेवन लाभकारी है बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगे...- बाजरे की रोटी खाने वालों को हड्डियों में कैल्शियम की कमी से पैदा होने वाले रोग आस्टियोपोरोसिस और खून की कमी यानी एनीमिया नहीं होता।- बाजरे में भरपूर कैल्शियम होता है जो कि हड्डियों के लिए रामबाण औषधि है, आयरन भी बाजरे में इतना अधिक होता है कि खून की कमी से होने वाले रोग नहीं हो सकते।- वरिष्ठ चिकित्साधिकारी मेजर डा. बी.पी. सिंह के सेना में सिक्किम में तैनाती के दौरान जब गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम और आयरन की जगह बाजरे की रोटी और खिचड़ी दी जाती थी। इससे उनके बच्चों को जन्म से लेकर पांच साल की उम्र तक कैल्शियम और आयरन की कमी से होने वाले रोग नहीं होते थे।- इतना ही नहीं बाजरे का सेवन करने वाली महिलाओं में प्रसव में असामान्य पीड़ा के मामले भी न के बराबर पाए गए।- गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम की ग
खाली पेट पानी पीने के है बहुत फायदे!!

खाली पेट पानी पीने के है बहुत फायदे!!

Health Care
जल को जीवन यूं ही नहीं कहा जाता। अच्छे स्वस्थ्य के लिए पानी बहुत महत्वपूर्ण है। सुबह-सुबह खाली पेट पानी पीने के बहुत से फायदे होते है। आयुर्वेद से लेकर आधुनिक चिकित्‍सा पद्धतियां में खाली पेट पानी पीने को बहुत आवश्यक मानती हैं। सुबह-सुबह बिस्‍तर से उठते ही आपको कम से कम चार गिलास पानी यानी लगभग 1 लीटर पानी पीना चाहिये। इससे आपकी पाचन क्रिया तो दुरुस्‍त रहती ही है, साथ ही आप कई अन्‍य बीमारियों से भी बचे रहते हैं। आदत धीरे-धीरे पड़ेगी!! रोज सुबह-सुबह खाली पेट पानी पीने की प्रक्रिया को वॉटर थेरेपी ट्रीटमेंट कहते है। हो सकता है कि आपको शुरुआत में 1 लीटर पानी पीने में तकलीफ हो, लेकिन धीरे-धीरे आपको इसकी आदत हो जाएगी। पहले दो गिलास पानी पिए, इसके बाद दो मिनट रुके और फिर दो गिलास पानी पिएं। पानी पीने से एक घंटे पहले और पानी पीने के एक घंटे बाद तक कुछ न खाएं-पिएं, ठोस आ‍हार तो भूल से भी न लें। ज
सांसों की बदबू हो सकती है ये वजह!

सांसों की बदबू हो सकती है ये वजह!

Health Care
बहुत ही कम लोग इस बात को जानते है कि सांसों से आने वाली दूर्गध / बदबू का संबंध सिर्फ मुंह या दांतों से ही नहीं है। ऐसी कई प्रकार की बीमारियां भी है जिनकी वजह से सांसो को बदबूदार कर देती है और जिसके चलते अक्सर लोग शर्मिदगी का सामना करते है। इसके बावजूद अधिकांश लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते। और न ही सही समय पर इसका इलाज करवाते हैं। आपको आज हम ऐसी ही कुछ बीमारियों के बारे में बताते है जो की सांसें में बदबू उत्‍पन्‍न करती हैं!पेट में खराबी कभी-कभी पेट की खराबी भी सांसों की बदबू का कारण बनती है। वैसे तो सांसों से आती बदबू आमतौर पर मुंह से जुड़ी होती है, लेकिन कई बार शरीर के किसी भी हिस्सेा में आने वाले बदलाव के कारण भी यह समस्याद हो सकती है। पेट की समस्याे एसिड रिफ्लक्स होने पर शरीर की पाचन क्रिया ठीक नहीं रहती। इसमें सीने और छाती में जलन होती है। कई बार इस समस्यान से ग्रस्त व्यक्ति को घबरा
गर्मी में प्याज खाने के फायदे!

गर्मी में प्याज खाने के फायदे!

Health Care
गर्मी में प्याज खाने के फायदे जानेंगे तो रोज खाएंगे! प्याज का उपयोग सलाद के रूप में किया जाता है, गर्मियों में प्याज का सेवन बहुत लाभदायक माना जाता है। गर्मियों में रोज प्याज खाने से लू नहीं लगती, साथ ही गर्मियो में होने वाली कुछ अन्य बीमारियों भी दूर रहती हैं। अगर आपको डर लगता है कि प्याज के खाने से मुंह से दुर्गंध आएगी तो खाने के बाद माउथ फ्रेशनर खाइए या ब्रश कर लीजिए, पर प्याज जरूर खाये। आहार विशेषज्ञों की मानें तो प्याज यौन दुर्बलता को दूर करने में भी बहुत उपयोगी है। यौन शक्ति के संवर्धन एवं संरक्षण के लिए प्याज एक सस्ता एवं सुलभ विकल्प है।आइए, आज हम आपको बताते हैं प्याज के कुछ ऐसे ही उपयोग और गुणों के बारे में, जिन्हें अपनाकर आप कई समस्याओं से मुक्ति पा सकते हैं।प्रति 100 ग्राम प्याज में पाए जाने वाले पोषक तत्व:- प्रोटीन 1.2 ग्राम कार्बोहाइड्रेट 11.1 विटामिन 15 मि.ग्रा. व
कच्चे व हरे आमों के स्वास्थ्य लाभ!

कच्चे व हरे आमों के स्वास्थ्य लाभ!

Health Care
एसिडिटी के लिए! यदि आपको एसिडिटी या छाती में जलन की समस्या है तो एसिडिटी को कम करने के लिए एक कच्चा आम रोजाना सेवन करें।मॉर्निंग सिकनेस! गर्भवती महिलाओं को आचार या अन्य खट्टा खाने का मन करता है। इसलिए कच्चे हरे आम से मॉर्निंग सिकनेस को दूर किया जा सकता है।ऊर्जा दायक! क्या आप जानते हैं कि कच्चे आम में अच्छी खासी ऊर्जा होती है। अनुभवी लोग कहते हैं कि दोपहर के आलसीपन को कम करने के लिए दोपहर का खाना खाने के बाद में एक कच्चा आम खाना चाहिए।कच्चा आम लिवर के लिए अच्छा होता है! लिवर से संबंधित विकारों को कम करने में कच्चा आम काफी मददगार होता है। एक हरा आम रोजाना खाने से पित्त अम्ल का स्त्राव ज्यादा होता है और यह आंतों को बैक्टीरिया के संक्रमण से दूर रखता है।घमौरी नाशक! कच्चा आम न केवल घमौरियों के लिए अच्छा है बल्कि इसमें कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो आपको सूर्य के प्रभाव से बचाते है
error: Content is protected !!