जानें शरीर के अंगों में दर्द व सोने की पोजीशन का संबंध!

Relationship Between Body Pain and Sleeping Position in Hindi

ज्‍यादातर लोग सोते समय बॉडी के पॉश्‍चर पर ध्‍यान नहीं देते। खासकर तब जब शरीर के किसी हिस्‍से जैसे पीठ, गर्दन, कंधे आदि में दर्द हो। इस अवस्‍था में सही स्थिति में न सोने पर मांसपेशियों में खिंचाव आने से नींद भी प्रभावित हो सकती है।

जानें किस तरह के दर्द में सोने की पोजीशन कैसी हो:-

कंधे का दर्द:-

कारण:- शोल्‍डर पेन यानी कंधे के दर्द के कई कारण हो सकते हैं, जैसे पीठ झुकाकर चलना या बैठना, भारी हैंडबैग उठाना, सर्वाइकल स्‍पॉन्डिलाइटिस आदि।

टिप्‍स:- अक्‍सर महिलाएं सोते समय दोनों हथेलियां सिर के नीचे रखकर सोती हैं, जो सही नहीं हैं। ऐसे में बांह, कंधे और हाथों की नसों पर दबाव पड़ता है और कंधे का दर्द बढ़ जाता है। सोते समय दर्द वाले कंधे की ओर करवट करके न सोएं। दूसरी तरफ करवट करें और घुटनों को थोड़ा मोड़ लें। दोनों हाथों को अपने सामने सीधा रखें। तकिए को बांहो में भींचकर सोएं। दोनों कंधों में दर्द होने पर पीठ के बल सोएं।

गर्दन दर्द:-

कारण:- इसका एक कारण सर्वाइकल स्‍वॉन्डिलाइटिस भी हो सकता है। ऐसे में सावधानी बरतें।

टिप्‍स:- इस स्थिति में सिर के नीचे तकिया लगाकर न सोएं। इससे गर्दन की मसल्‍स में तनाव पड़ता है। तकिए की बजाय तौलिए को मोड़कर लगा सकते हैं। इससे गर्दन को सपोर्ट मिलेगा और दर्द कम होगा। गर्दन के नीचे कुछ न रखें, इससे दर्द में जल्‍द ही आराम मिलेगा।

पीठ दर्द:-

कारण:- लगातार पीठ को सीधा न रखकर बैठना। यह खासकर ऑफिस में काम करने वालों को अधिक होता है।

टिप्‍स:- पीठ के बल सोने की आदत है तो घुटनों के नीचे छोटा-सा तकिया लगाएं, इससे पीठ को राहत मिलेगी। अगर करवट लेकर सोना चाहते हैं तो घुटनों को थोड़ा-सा मोड़ लें। दोनों घुटनों के बीच में तकिया रख लें, आराम मिलेगा।

सर्दी-साइनस:-

कारण:- सर्दी के दिनों में नाक बंद होना और गला सूखना।

टिप्‍स:- बेहतर नींद के लिए करवट लेकर सोएं। तकिया थोड़ा ऊंचा रखें ताकि नाक खुल जाए और सांस लेने में दिक्‍कत न हो। ध्‍यान रखें कि सिर ऊंचा होने पर बांहो को अतिरिक्‍त सपोर्ट की जरूरत होती है ऐसे में बाहों में तकिया ले लें। साथ ही पैर हो हल्‍का मोड़कर रखें। इससे साइनस की समस्‍या में काफी आराम मिलेगा।

सीने में जलन:-

कारण :- पीठ के बल या दाईं ओर करवट लेकर सोने पर पाचनक्रिया की नली पर दबाव पड़ता है और भोजन को पचाने वाला एसिड पीछे को ओर आता है। ऐसे में सीने में जलन होती है।

टिप्‍स:- ऐसे स्थिति में बाई ओर करवट लेकर सोएं। घुटनों को ऊपर पेट की और मोड़कर रखें। हाथों को सामने की ओर मोड़कर ठीक वैसे ही रखें जैसे स्थिति गर्भस्‍थ शिशु की होती है।


English Summery: Know Relationship Between Body Pain and Sleeping Position in Hindi, Jane Sharir Ke Aango Mein Dard Va Sone Ki Position Ka Sambandh, Body Pain and Sleeping Position Connection in Hindi, Badan Dard Sarir Me Dard in Hindi



Related Posts


Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!