Shadow

Health Care

स्वास्थ्य सम्बन्धी सुझाव हिन्दी में, Health Care Tips in Hindi, Share With Friends and Family

पाइल्‍स की समस्‍या से बच सकते हैं!!

पाइल्‍स की समस्‍या से बच सकते हैं!!

Health Care
14 प्रतिशत शहरी लोग कब्‍ज से परेशान हैं। 10 प्रतिशत लोग पूरी दुनिया में कब्‍ज पीडि़त100 में से 70-80 प्रतिशत महिलाओं को होती है यह समस्‍या। मुख्‍य कारण पेल्विक फ्लोर मसल्‍स का प्रसव बाद कमजोर होना है।मरीज को पाइल्‍स का पता नहीं चलता, खारिश महसूस होना, मस्‍से व जोर लगाने पर खून आ सकता है। बी अवेयर कब्‍ज पाचन तंत्र की उस स्थिति को कहते हैं जिसमें कोई व्‍यक्ति का मल बहुत कड़ा हो जाता है तथा मलत्‍याग में कठिनाई होती है। पेट साफ नहीं हो पाता है। ज्‍यादा जोर लगाने से भी स्‍टूल पास नहीं होता है। महिलाओं में प्रसव बाद कूल्‍हे व आस-पास की नसें कमजोर होती हैं। इसलिए पाइल्‍स की आशंका ज्‍यादा रहती है।असमय खानपान, मिर्च-मसालेदार चीजें खाने, तनाव, खराब जीवन शैली की वजह से दिक्‍कत होती है। भोजन में फाइबर व प्रोटीन युक्‍त चीजें लें। जैसी मौसमी, हरी सब्जियां, सोयाबीन, दालें, दानामेथी, अलसी के
विरुद्ध आहार भी करता है बीमार!!

विरुद्ध आहार भी करता है बीमार!!

Health Care
आयुर्वेद के अनुसार विपरीत गुण वाली चीजें एकसाथ खाने से बचें हैल्‍दी ईटिंग विरूद्ध आहार का मतलब खाने-पीने की वे चीजें जिन्‍हें एक साथ लेने से सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। घर के बुजु्र्ग भी इसीलिए कुछ चीजें एकसाथ खाने-पीने से रोकते-टोकते हैं।आहार हमारे जीवन का आधार है, लेकिन खानपान की लापरवाही के कारण अक्‍सर बीमार पड़ते हैं। स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छी जीवन शैली के साथ संतुलित भोजन बेहत जरूरी है जानते हैं आयुर्वेद विशेषज्ञ की राय :- विरूद्ध आहार का मतलब - 9 गुण होते हैं हमारे भोजन में। जब इसके नौ गुणों का अवरोध-विरोध पाया जाता है तो इसे विरुद्ध आहार कहते हैं। 13 प्रकार के विटामिन, खनिज तत्व, प्रोटीन और फाइटो विटामिंस की खाने में प्रतिदिन होती है शरीर को जरूरत।चक्‍कर स्‍वाद का हो या फिर जानकारी का अभाव। जाने-अनजानें में हम कई बार विरूद्ध आहार ले लेते हैं। यदि नियमित रूप से विरूद
काम की बात – बीमारियों से बचाते हैं ये सुपरफूड!!

काम की बात – बीमारियों से बचाते हैं ये सुपरफूड!!

Health Care
सुंदर दिखने के लिए नौजवान क्‍या नहीं करते, जिम जाने, डाइट का ध्‍यान रखते हैं। स्लिम रहने के लिए लड़कियां ही नहीं गृहणियां भी तरह-तरह के फूड आजमाती है। किनुआ दक्षिण अमरीका से किनुआ आयात होता है। अमरीका में इसे सभी अनाजों की मां कहा जाता है। यह धान से छोटे आकार का होता है। इसके छिलके के नीचे चावल जैसा अनाज होता है जिसे उबालकर खाते है। इसमें वसा और ग्‍लूटन नहीं होते। इसमें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, मैग्‍नीशियम, फास्‍फोरस, आयरन और जस्‍ता भी होता है। बेरीज स्‍ट्राबेरी, ब्‍लूबेरी, क्रैनबेरी स्‍वास्‍थयवर्धक होती हैं। यह मैगनीज, विटामिन सी व के और फाइबर से भरपूर हैं। डायबिटीज व वजन घटाने में फायदेमंद है। इनमें एंटीऑक्‍सीडेंट होते है, जिससे त्‍वचा निखरती है। यह कैंसर व हृदय रोगियों के लिए लाभ्‍दायक है। इसको खाने से वजन नियंत्रित रहता है। बीमारियों से भी बचाव होता है। नद्स बादाम, अखरोट, पिस्‍ता
फल-सब्जियों को अनदेखा तो नहीं कर रहें आप!

फल-सब्जियों को अनदेखा तो नहीं कर रहें आप!

Health Care
यदि आपको पिछले कुछ समय से ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या परेशान करने लगी है तो अपनी डाइट पर ध्‍यान दें ! शरीर कुछ ऐसे संकेत देना शुरू कर देता है, जो आपको बार-बार यह अहसास करवाता है कि आप हेल्‍दी डाइट नहीं ले रहे हैं, जैसे आप आलसी होने लगेंगे या फिर कुछ भूलने लगेंगे। अचानक से आपको वजन बढ़ा हुआ महसूस होगा तो कभी बीपी की समस्‍या परेशान करेगी। डायबिटीज का रोग भी उभर सकता है। यह सब बीमारियां इस बात की ओर इशारा करती है कि आपके शरीर में अब पोषक तत्‍वों की कमी हो चुकी है। दरअसल, शारीरिक क्रियाओं को सुचारू रूप से चलाने के लिए शरीर को विटामिन्‍स और मिनरल्‍स की अवश्‍यकता होती है। इसके लिए सबसे अच्‍छा तरीका है कि आप रोजाना फल औश्र सब्जियों का भरपूर मात्रा में सेवन करें।जानते हैं, इनकी कमी से होने वाले दुष्‍प्रभावों के बारे में :-पेट की समस्‍या (Stomach problems) :- यदि आपको पेट संबंधी समस्‍या रहती ह
स्‍वस्‍थ रखेगा क्‍लोरोफिल!!

स्‍वस्‍थ रखेगा क्‍लोरोफिल!!

Health Care
गहरे हरे रंग की पत्‍तेदार सब्जियां क्‍लोरोफिल, आयरन, विटामिन्‍स का अच्‍छा स्‍त्रोत होती है। क्‍लोरोफिल शरीर में खून का स्‍त्राव बढ़ाने के साथ ही एनीमिया की कमी को भी दूर करता है। इसमें एंटी ऑक्‍सीडेंट प्रॉपर्टीज होती है। किडनी स्‍टोन, कैंसर, अनिंद्रा और दांतो संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में भी क्‍लोरोफिल महत्‍वपूर्ण होता है। यह ब्‍लड क्‍लोटिंग में मदद करने के साथ ही घाव भरने की प्रक्रिया को भी तेज करता है। इसके अलावा शरीर में हार्मोंस को संतुलित रखने के साथ ही शरीर में विषक्‍त पदार्थों का निकालने में भी उपयोगी है। यह पाचन क्रिया को सुचारू कर एंटी एजिंग एजेंट का काम करता है। क्‍लोरोफिल में विटामिन्‍स के अलावा बीटा कैरोटिन भी पाया जाता है। जानते हैं फायदे...कैंसररोधी गुण:- कोलन कैंसर की आशंका को दूर करने में क्‍लोरोफिल को बहुत कारगर माना जाता है। एक अध्‍ययन के अनुसार डाइटरी क्‍लोरोफिल
तोहफा – सविता मिश्रा

तोहफा – सविता मिश्रा

Health Care
तोहफा -सविता मिश्राडोरबेल बजी जा रही थी। रामसिंह भुनभुनाए 'इस बुढ़ापे में यह डोरबेल भी बड़ी तकलीफ देती है। 'दरवाजा खोलते ही डाकिया पोस्‍टकार्ड और एक लिफाफा पकड़ा गया।लिफाफे पर बड़े अक्षरों में लिखा था वृद्धाश्रम। रूंधे गले से आवाज दी- 'सुनती हो बब्‍बू की अम्‍मा, देख तेरे लाडले ने क्‍या हसीन तोहफा भेजा है।'रसोई से आंचल से हाथ पोछती हुई दोंड़ी आई- 'ऐसा क्‍या भेजा मेरे बच्‍चे ने जो तुम्‍हारी आवाज भर्रा रही है। दादी बनने की खबर है क्‍या? नहीं, अनाथ! क्‍या बकबक करते हो, ले आओ मुझे दो। तुम कभी उससे खुश रहे हो क्‍या!वृद्ध शब्‍द पढ़ते ही कटी हुई डाल की तरह पास पड़ी मूविंग चेयर पर गिर पड़ी।कैसे तकलीफों को सहकर पाला-पोसा, महंगे से महंगे स्‍कूल में पढ़ाया। खुद का जीवन इस एक कमरे में बिता दिया। कहकर रोने लगी।दोनों के बीजे जीवन के घाव उभर आए और बेटे ने इतना बड़ा लि
दिनभर के लिए ऐसे पाएं एनर्जी!!

दिनभर के लिए ऐसे पाएं एनर्जी!!

Health Care
अपने दिनभर के कामों के लिए हमें एनर्जी की जरूरत होती है। दरअसल हमें सुबह से लेकर रात तक अलग-अलग समय में अलग-अलग एनर्जी लेवल की जरूरत होती है। ऊर्जा के इन स्‍तरों को हम तभी पा सकते हैं जब हम संतुलित आहार लें, समय पर सोएं और एक नियत समय पर उठें, रोजाना फलों और उनके रस आदि को डाइट में शामिल करें, नियमित व्‍यायाम करें औश्र स्‍नैक्‍स का भी एक टाइम निर्धारित रखें। आइए जानते हैं कि किन-किन बातों का ध्‍यान रखने से हम अपना एनर्जी लेवल बनाए रख सकते हैं।रोजाना एक नियत समय पर उठें। विशेषज्ञ मानते हैं कि आपको रोजाना एक ही समय पर उठना चाहिए। भले ही आप रात को किसी भी समय सोए हों। इससे आपकी बॉडी क्‍लॉक ठीक बनी रहती है। सही समय पर उठने के बाद अपने रोजमर्रा की क्रियाओं को करने के बाद कम से कम 10 से 15 मिनट के लिए धूप में रहें ताकि आपके शरीर को जरूरी विटामिन-डी मिल सके। भारत में फिलहाल विटामिन-डी की कमी
वजन खूब कम करेंगे ये छोटे टिप्‍स!!

वजन खूब कम करेंगे ये छोटे टिप्‍स!!

Fitness Tips, Health Care
मोटापा आज एक ऐसी समस्‍या बन गई है, जो तेजी से बढ़ रही है। इसके पीछे कारण मुख्‍य कारण हमारी जीवनशैली में आया परिवर्तन है। आज हम जिस लाइफ स्‍टाईल को फॉलो कर रहें है उसमें आरामतलबता बढ़ती जा रही है। इस तरह हम दिनभर में जो भी कैलोरी लेते हैं, वह बर्न होने के बजाय शरीर में एकत्रित होती जा रही है। इसी लाइफस्‍टाइल की वजह से धीरे-धीरे मोटापे जैसे समस्‍या बढ़ती जा रही है। यदि हम समय रहते बवेयर नहीं हुए तो मोटापा और उससे जुड़े रोगों की चपेट में आ जाएंगे। इसलिए मोटापे को कंट्रोल करना बहुत जरूरी है। इसके लिए हमें सबसे पहले दैनिक जीवन में कुछ खास आदतों की अपनाने की जरूरत है। मोटापे के कारण डायबिटीज और दिल की बीमारियों की आशंका कई गुना बढ़ जाती है!!आइए जानते हैं ऐसी कुछ आदतों के बारे में... फिजिकल एक्टिविटी मोटापा को कम करने के लिए नियमित शारीरिक कसरत करना भी जरूरी है क्‍योंकि कसरत से शरीर की अत
आंख फड़कने में घरेलू उपचार!!

आंख फड़कने में घरेलू उपचार!!

Health Care
आंख फड़कने के कारण कैफीन, स्‍ट्रेस, एलर्जी और ड्राई आई भी हो सकते हैं। आंख फड़कना सामान्‍य समस्‍या है, जो स्‍वत: ही कुछ समय बाद ठीक हो जाती है, लेकिन यह समस्‍या कई दिनों तक लगातार बनी रहे तो, तो चिकित्‍सक से उचित सलाह अवश्‍य लेनी चाहिए। यह क्रोनिक मूवमेंट डिस्‍ऑर्डर भी हो सकता है। आंख फड़कने के पीछे बहुत ज्‍यादा कैफीन लेना भी हो सकता है। इसके अलावा तनाव की वजह से भी इस तरह की समस्‍या हो सकती है। न्‍यूट्रिसंस इनबैलेंस भी एक बड़ा कारण हो सकता है। ऐसे में कुछ घरेलू उपायों की मदद से आंखों का फड़कना रोका जा सकता है। साथ ही आंखों के लिए कुछ खास तरह की एक्‍सरसाइज भी इस समस्‍या से आसानी से निजात दिला सकती है, तो आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ कारगर उपायों के बारे में, जिनसे आंखे स्‍वस्‍थ भी बनी रहेगी।केला खाएं:- आंख फड़कने के पीछे एक कारण शरीर में पोटेशियम और मैग्‍नीशियम की कमी होता है। ऐसे में के
लहसुन की चाय के कई फायदे!

लहसुन की चाय के कई फायदे!

Health Care, Vegetarian Recipes
लहसुन भले ही स्‍वाद में थोड़ा तीखा हो लेकिन आयुर्वेदिक रूप से इसमें कई औषधिय गुण पाए जाते हैं। रोजाना सुबह 1-2 लहसुन की कली खाई जाए तो कई बीमारियों से बचाव होता है। सब्‍जी या दाल में इसका छौंक लगाने के अलावा इससे तैयार चाय भी फायदेमंद होती है। जानते है इसे बनाने का तरीका और अन्‍य विशेष गुणों के बारे में:-ऐसे बनाए चाय:-सामग्री: • 1 लहसुन की कली • दो कप पानी • 1 चम्‍मच शहद • 1 चम्‍मच नींबू का रस • थोड़ा सा कसा हुआ अदरकबनने की विधि:- पानी को उबलकर सबसे पहले अदरक और लहसुन का पेस्‍ट बनाकर इसमें डालें। 15 मिनट तक धीमी आंच पर इसे उबलने दें। पकने के बाद 10 मिनट के लिए इसे ऐसे ही छोड़ दें। इसके बाद इसे गिलास में छानकर इसमें नींबू का रस और शहद मिला दें। लहसुन की चाय पीने के लिए तैयार है। इसे गुनगुना ही पीने की कोशिश करें।Garlic Tea Recipe and Benefits in Hindi, Lahs
error: Content is protected !!